वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग की AQI सुधार पर कई राज्यों संग बैठक, 10 उपायों पर निर्णय

Haimendra Singh, Last updated: Wed, 17th Nov 2021, 11:34 AM IST
  • वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग ने दिल्ली, हरियाणा, यूपी, पंजाब राज्यों के साथ AQI में शुधार के लिए बैठक की, जिसमें तत्काल प्रभाव से 10 उपायों पर निर्णय लिया गया. एनसीआर के सभी स्कूलों और कोचिंग संस्थान अगले आदेश तक बंद रहेंगे.
वायु की गुणवत्ता सुधारने के लिए एयर कंट्रोल मैनेजमेंट कमीशन ने चार राज्यों के साथ बैठक की.( सांकेतिक फोटो )

मेरठ. दिल्ली-एनसीआर सहित उत्तर भारत में बढ़ते प्रदूषण को लेकर वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग ने सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई से पहले दिल्ली, हरियाणा, यूपी, पंजाब राज्य के अधिकारियों के साथ बैठक की. बैठक में एक्यूआई की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए आयोग ने 10 तत्काल उपायों पर निर्णय लिया है. इस फैसले के बाद एनसीआर में सभी शिक्षण संस्थान अगले आदेश तक बंद रहेंगे. एनसीआर में कम से कम 50% सरकारी कर्मचारी घर से काम करेंगे. साथ ही प्राइवेट कंपनियों को भी 21 नवंबर तक ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा. इसके अलावा दिल्ली के 300 किमी के दायरे में 11 थर्मल प्लांटों में से 6 को 30 नवंबर तक काम करना बंद किया जाएगा.

दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण को लेकर सुप्रीम लगातार सख्त होता जा रहा है. कोर्ट के सुनवाई से पहले एयर कंट्रोल मैनेजमेंट कमीशन ने एनसीआर के आसपास के राज्य के साथ बैठक की. बैठक में वायु प्रदूषण कम करने के 10 उपायों पर फैसला लिया गया. जिसमें अगले आदेश तक एनसीआर में सभी शिक्षण संस्थान को बंद करने का फैसला किया गया है.

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे के पांचवे चरण का काम 30 नवंबर से होगा शुरू, इन शहरों को फायदा

आयोग द्वारा लिए गए 10 नियम

- एनसीआर में सभी शिक्षण संस्थान अगले आदेश तक बंद रहेंगे। केवल ऑनलाइन कक्षाओं की अनुमति है.

- एनसीआर में कम से कम 50% सरकारी कर्मचारी घर से काम करेंगे और निजी प्रतिष्ठानों को भी 21 नवंबर तक ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा.

- 10 वर्ष से अधिक (डीजल) 15 वर्ष (पेट्रोल) से अधिक का कोई वाहन सड़क पर नही आना चाहिए.

- गैर जरूरी सामान ले जाने वाले ट्रकों को एनसीआर में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा.

- दिल्ली/एनसीआर में डीजल जनरेटर पर प्रतिबंध रहेगा.

- रेलवे, मेट्रो हवाई अड्डे या राष्ट्रीय सुरक्षा/रक्षा संबंधी कार्यों को छोड़कर निर्माण गतिविधियों पर प्रतिबंध होगा.

- सड़क पर निर्माण सामग्री को ढेर करने के लिए जिम्मेदार व्यक्तियों/संगठनों पर भारी जुर्माना लगाना.

- अधिक से अधिक संख्या में वाटर स्प्रिंकलर, एंटी-स्मॉग गन तैनात करें.

- फ्यूल ईंधन का उपयोग करने वाले उद्योगों को केवल तभी चलने की अनुमति होगी जब वे गैस का उपयोग करते हैं, या उन्हें बंद करने की आवश्यकता होगी.

- दिल्ली के 300 किमी के दायरे में 11 थर्मल प्लांटों में से 6 को 30 नवंबर तक काम करना बंद करना होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें