मेरठ:अवैध निर्माण के चलते गुस्साए लोग, घरों के बाहर पोस्टर लगाकर लिखा मकान बिकाऊ

Smart News Team, Last updated: Tue, 29th Dec 2020, 3:45 PM IST
साकेत सोसाइटी में अवैध निर्माण के चलते लोगों में रोष व्याप्त है.बउन्होंने अपने घरों के बाहर पोस्टर लगाकर उस पर लिख दिया कि मकान बिकाऊ है. लोगों ने इस संबंध में मंडलायुक्त को भी शिकायत दी है जबकि एमडीए का कहना है कि यह निर्माण अवैध नहीं है.
लोगों के घरों के बाहर लगे पोस्टर

मेरठ. साकेत में केक फैक्ट्री के पास पुराने मकान को तोड़कर किए जा रहे नए व्यवसायिक निर्माण पर आपत्ति जताते हुए मनोरंजन पार्क के कई लोगों ने अपने घर के बाहर पोस्टर लगा दिया है. साकेत सोसायटी की ओर से मंडलायुक्त को इसकी शिकायत की गई है.

आपको बता दें कि केक फैक्ट्री के पास मकान में व्यवसायिक अवैध निर्माण के चलते लोगों ने अपने घर के बाहर पोस्टर लगा दिए हैं जिस पर लिखा है कि मनोरंजन पार्क कॉलोनी के कोने पर हो रहे अवैध दुकानों के निर्माण के कारण मनोरंजन पार्क कॉलोनी के सभी मकान बिकाऊ है. हालांकि इसको लेकर के उन्होंने मंडलायुक्त को शिकायत भी भेजी है.

मेरठ सर्राफा बाजार में तेजी के साथ खुले सोना चांदी के भाव, आज का मंडी भाव

लोगों का कहना है कि अवैध निर्माण को रोकने की बजाय एमडीए उसे बढ़ावा दे रहा है जिस पर दिन भर काम जारी रहता है. पुराने मकान को तोड़कर कमर्शियल निर्माण किया जा रहा है. इसके अलावा उसमें नगर निगम की 100 वर्ग गज की जमीन भी शामिल है जिस पर कब्जा किया गया है. जबकि यह जमीन कच्ची सड़क के लिए आरक्षित होती है.

लोगों का यह भी बताया है कि अवैध निर्माण के चलते जाम की समस्या उत्पन्न हो गई है. बिना मानचित्र स्वीकृत कराये बिना यह निर्माण किया जा रहा है. यदि उनकी सुनवाई नहीं हुई तो वे जल्द ही धरना करेंगे. इसके अलावा इसी प्रकरण में मेरठ सहकारी आवास समिति के सचिव ने भी मंडलायुक्त को शिकायत की है. सचिव ने यह मांग की है कि पैदाइश करवा कर रास्ते पर हुए कब्जे को हटाया जाए क्योंकि वहां का रास्ता पहले से ही संकरा है.

मेरठ रैपिड रेल: व्यापारियों ने कैंट बोर्ड को 44 लाख तक आय बढ़ाने के सुझाए तरीके

वहीं इस मामले में एमडीए के जोनल अधिकारी का कहना है कि लोगों की शिकायत पर उन्होंने सोमवार को मौके पर निरीक्षण किया है. अवैध निर्माण नहीं हो रहा है क्योंकि पुराने मकान में अंदर के ढांचे को तोड़कर नया ढांचा बनाया जा रहा है. चूंकि यह मकान 1963 में बना है इसीलिए इसका मानचित्र जरूरी नहीं है यदि उसका बाहरी स्वरूप ना बदला जाए और ना ही उपयोग बदला जाए. यह आवासीय मकान है जिसका उपयोग मकान के रूप में किया जाएगा. यहां दुकानें नहीं बन रही है इसके लिए शपथ पत्र लिया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें