कृषि कानून के विरुद्ध किसानों के भारत बंद को भाकियू (तोमर), प्रसपा का समर्थन

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 11:30 PM IST
किसान बिल पर केंद्र सरकार के खिलाफ होने जा रहे भारत बंद अभियान को अब भाकयू तोमर ने भी अपना समर्थन दे दिया है. इसके साथ ही प्रदेश सरकार में पूर्व मंत्री रहे शिवपाल सिंह यादव की पार्टी ने भी इस बंदी को अपना समर्थन दिया है. इसके तहत देश भर में चक्का जाम किया जाएगा.
दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर किसान प्रदर्शन करते हुए

मेरठ: कृषि बिल के विरुद्ध दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसानों के समर्थन में भारतीय किसान यूनियन तोमर के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजीव तोमर ने यूपी के सभी अधिकारियों से अपील की है. उन्होंने इस अपील में लोगों से 8 दिसंबर को चक्का जाम करने की बात कही. उन्होंने साथ ही कहा कि सभी लोग अपने-अपने यातायात संबंधी कार्य को सात दिसंबर तक पूरा कर ले. जिससे चलते इस अभियान को सफल बनाया जा सकेगा.

वहीं, संजीव तोमर ने बताया कि भारत बंद को सफल बनाने के लिए भारतीय किसान यूनियन तोमर उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के प्रत्येक जिलों में मुख्य मार्गो को रोक कर केंद्र सरकार तक हम अपनी आवाज पहुंचाने का काम करेंगे. साथ ही लोगों से अपील की सभी लोग अपने-अपने यातायात संबंधित कार्य सात दिसंबर को ही पूरे कर ले और आठ से नौ दिसंबर तक स्थगित करें.

UP MLC चुनावः लखनऊ स्नातक नतीजे कल तक, मेरठ के शनिवार रात नतीजे आने की उम्मीद

साथ ही भाकयू तोमर के मेरठ मंडल मीडिया प्रभारी सुशील कुमार पटेल ने कहा कि संगठन के हर जिलों के पदाधिकारियों ने राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी संजीव तोमर के फैसले का स्वागत किया है. साथ ही सब ने 8 दिसंबर को भारत बंद कैंपेन में मजबूती के साथ सभी जिलों मे चक्का जाम को सफल बनाने का आश्वासन दिया.

CM ने लांच किया मेरा कोविड केन्द्र ऐप, कोरोना टेस्टिंग लैब खोजने में करेगा हेल्प

इनके अतिरिक्त प्रसपा मुखिया शिवपाल सिंह यादव ने भी किसान आंदोलन के अंतर्गत आगामी अभियान को अपना समर्थन दिया है. इसी बात को और स्पष्ट से रुप रखते हुए पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता शैंकी शर्मा ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्देश पर भारत बंद को समर्थन दिया गया है. हालांकि, पार्टी 7 दिसंबर को भी किसानों के समर्थन में जिला कार्यालयों पर भी आंदोलन कर अपना गुस्सा जाहिर करेगी.

वाराणसी:फत्तेहपुर में 1500 बोझ धान की फसल जलकर राख, गांव में तनाव का माहौल

गन्ना मिल में डालकर वापस लौट रहे थे दो किसान, ट्रैक्टर-ट्राली के नीचे दबकर मौत

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें