मेरठ के सर्राफा बाजार में बड़ा फर्जीवाड़ा, नकली हॉलमार्किंग कर बेचे करोड़ो के जेवर

Swati Gautam, Last updated: Sat, 13th Nov 2021, 9:57 AM IST
  • मेरठ के सर्राफा बाजार में बीआइएस की टीम ने शुक्रवार को छापेमारी की. टीम ने छापेमारी के दौरान नील की गली में ओम कांप्‍लेक्‍स में एक दुकान पर नकली हालमार्किंग को पकड़ा और करीब 14 लाख रुपये कीमत के 300 ग्राम सोने के जेवर और दो मशीनें जब्त करके सील कर दी. आरोपी अब तक ग्राहकों को करोड़ो रुपए की ज्वैलरी का चूना लगा चुके थे.
मेरठ के सर्राफा बाजार में बड़ा फर्जीवाड़ा, नकली हॉलमार्किंग कर बेचे करोड़ो के जेवर. file photo

मेरठ. मेरठ के सर्राफा बाजार में शुक्रवार को नकली हालमार्किंग कर सोना बेचने की सूचना मिलने पर हड़कंप मच गया. जिसके बाद बाजार में बीआइएस की टीम ने छापेमारी की. टीम ने छापेमारी के दौरान नील की गली में ओम कांप्‍लेक्‍स में एक दुकान पर नकली हालमार्किंग को पकड़ा और करीब 14 लाख रुपये कीमत के 300 ग्राम सोने के जेवर और दो मशीनें जब्त करके सील कर दी. टीम ने जो दो मशीने जब्त की हैं वे मशीन बीआइएस के अधिकृत हालमार्किंग सेंटरों पर होती है. वहीं उस प्रत्येक एक्सआरएस मशीन की कीमत 60 से 70 लाख रुपये है. बताया जा रहा है कि कम से कम चार माह से यह फर्जीवाड़ा चल रहा था.

कैसे चलता था फर्जीवाड़ा

जानकारी अनुसार आरोपी पहले 10-15 आभूषणों पर वैध तरीके से हालमार्किंग करते थे फिर उसी नंबर को दूसरे जेवरों पर भी लगा कर उनकी बिक्री कर रहे थे. टीम को मेरठ में तीन स्थानों पर इसकी सूचना मिली थी. कम से कम चार माह से यह फर्जीवाड़ा चल रहा था. इन चार महीनों में आरोपियों ने जाने कितने नकली हॉलमार्किंग के आभूषण बेचे थे और ग्राहकों को करोड़ों रुपये का चूना लगाया था. मेरठ में 20 कैरेट की ज्वैलरी बनती है जबकि आरोपी अपनी जिन सोने की ज्वैलरी पर नकली हालमार्किंग लगा रहे थे वह 18 और 20 कैरेट की ज्वैलरी है.

CM योगी की इस खास योजना के लिए केंद्र की मंजूरी, करोड़ों रुपये से 39 लाख लोगों को फायदा

मेरठ सर्राफा बाजार में देश के हर कोने से व्यापारी आभूषण बनवाने आते हैं. यहां प्रतिदिन का 15 से 20 करोड़ रुपये का कारोबार बाजार में होता है ऐसे में नकली हॉलमार्किंग कर गहने बेचने की खबर से बाजार के व्यापार पर भी अच्छा खासा असर पड़ेगा. वहीं मेरठ में सोने के बड़े कारोबार को देखते हुए वर्तमान में बीआइएस ने छह हालमार्किंग सेंटर बनाए हैं. लोगों को उनकी द्वारा अदा की गई कीमत के बदले शुद्ध सोने के आभूषण मिल सकें इसके लिए यह कवायद की है. बता दें कि टीम ने जैसे ही सूचना मिलने पर छापेमारी शुरू की तो सराफा बाजार के व्यापारियों में खलबली मच गई. श्री राम कांप्लेक्स, नील की गली और इसके आसपास की दुकानों पर टीम पहुंची तो वहां उन्हें दुकानों पर ताला लगा मिला.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें