मेरठ: भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने पुरा मंदिर में की पूजा अर्चना

Smart News Team, Last updated: 03/03/2021 03:38 PM IST
  • सांसद मीनाक्षी लेखी मंगलवार को मेरठ में एक कार्यक्रम में शिरकत करने आईं थीं.उनका काफिला मेरठ से बागपत गया. उन्होंने पूरा महादेव जाकर पूजा अर्चना की और जलाभिषेक भी किया.
मेरठ: भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने पुरा मंदिर में की पूजा अर्चना

मेरठ। नई दिल्ली से बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने मंगलवार को पहले उत्तर भारत के प्रसिद्ध ऐतिहासिक एंव पौराणिक महत्व के परशुरामेश्वर महादेव मंदिर गईं थीं. वहां पूजा-अर्चना करने के बाद उनका काफिला लाक्षागृण बरनावा भी गया.

सांसद मीनाक्षी लेखी मंगलवार को मेरठ में एक कार्यक्रम में शिरकत करने आईं थीं.उनका काफिला मेरठ से बागपत गया. उन्होंने पूरा महादेव जाकर पूजा अर्चना की और जलाभिषेक भी किया. इसके बाद महाभारतकालीन बरनावा स्थित लाक्षागृह दर्शन करने पहुंची. वहां लोगों से जानकारी ली और भ्रमण किया. उनके साथ मेरठ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष गौरव शर्मा, व्यापारी नेता विपुल सिंघल भी थे.

कथित अपहरणकर्ता मेहताब को तलाश रही थी पुलिस, अपने दोस्त के साथ दिल्ली आई लड़की

बता दें कि मिनाक्षी लेखी भारतीय जनता पार्टी से पहली बार 2014 में नई दिल्ली सासंद बनीं थी. और दुसरी बार 2019 लोकसभा चुनाव जीतकर लगातार दूसरी बार अजय माकन को हराकर सासंद बनीं हैं.मीनाक्षी लेखी को भाजपा के गतिशील और बहुमुखी चेहरे के रूप में जाना जाता है. वे भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता और भारत के सुप्रीम कोर्ट की वकील हैं. लेखी साप्ताहिक पत्रिका, 'फोर्थराइट' में एक पाक्षिक कॉलम लिखती है. 

UP पंचायत चुनाव 2021: पंचायती राज विभाग ने जारी की आरक्षण की सूची

उन्होंने टेलीविज़न शो और समाचार पत्रों में विभिन्न लेखों में कई मुद्दों पर बहस की है. वे विभिन्न मंत्रालयों के साथ एनएचआरसी और लिंग प्रशिक्षण कार्यक्रमों में विभिन्न व्याख्यान ले रही है. वे "महिला आरक्षण विधेयक" और "कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न की समस्या" की मसौदा समिति का सदस्य भी रही है.मीनाक्षी लेखी का जन्म 30 अप्रैल 1967 को नई दिल्ली में एक मध्यम वर्ग के परिवार हुआ था. उन्होंने प्रतिष्ठित हिंदू कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से वनस्पति विज्ञान में बीएससी किया है. बाद में, उन्होंने एलएलबी किया. डीयू से उन्होंने 1990 में दिल्ली बार काउंसिल में पंजीकरण करवाया. उनके ससुर स्वर्गीय प्राण नाथ लेखीए सुप्रीम कोर्ट के वकील थे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें