पश्चिमी यूपी की धरोहरों पर लिखी गई किताब हुई प्रकाशित, लगातार बढ़ रही है मांग

Smart News Team, Last updated: Wed, 18th Nov 2020, 4:06 PM IST
  • इतिहासकार डॉ. मनोज कुमार गौतम ने लिखी है जिसकी मांग काफी बढ़ रही हैं. इस पुस्तक में पश्चिमी यूपी के अलग-अलग जिलों के ऐतिहासिक धरोहरों के बारेें में विस्तृत जानकारी दी गई है. डॉ. मनोज कुमार की लिखित पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ऐतिहासिक धरोहरों से संबंधित पुस्तक की ऑनलाइन बिक्री काफी बढ़ गई है. इसकी मांग काफी तेजी से मांग बढ़ रही है.
इतिहासकार डॉ. मनोज कुमार गौतम की लिखी पुस्तक

मेरठ. पश्चिमी यूपी की ऐतिहासिक धरोहरों नाम की पुस्तक इतिहासकार डॉ. मनोज कुमार गौतम ने लिखी है जिसकी मांग काफी बढ़ रही हैं. इस पुस्तक में पश्चिमी यूपी के अलग-अलग जिलों के ऐतिहासिक धरोहरों के बारेें में विस्तृत जानकारी दी गई है. डॉ. मनोज कुमार की लिखित पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ऐतिहासिक धरोहरों से संबंधित पुस्तक की ऑनलाइन बिक्री काफी बढ़ गई है. इसकी मांग काफी तेजी से मांग बढ़ रही है.

इतिहासकार डॉ. मनोज कुमार गौतम ने  किताब के बारे बताते हुए कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश का इतिहास प्राचीन है और इसमें समृद्धता भी है. सन्दर्भ पुस्तक में गहन शोध के साथ पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ऐतिहासिक धरोहरों को प्रारम्भ काल से 1857 ईसवीं तक  प्रस्तुत  और उन पर विस्तार से चर्चा करने का प्रयास किया गया है. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सात जिलों के शोध मे की गई है जिसे इस पुस्तक पर लिखा गया है.

मेरठ: कोतवाली पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 17 जुआरी को 52 हजार रुपये के साथ धरा

किसी ऐतिहासिक धरोहरें तथा स्मारक ऐसे साक्ष्य हैं, जो किसी भी देश, प्रदेश या क्षेत्र के इतिहास, कला, समाज-संस्कृति यहां तक कि आर्थिक परिस्थिति को भी हमारे समक्ष रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के स्मारक हमारी संस्कृति-विरासत के वाहक हैं जो कि प्रदेश या क्षेत्र के इतिहास, कला, समाज-संस्कृति यहां तक कि आर्थिक परिस्थिति को भी हमारे समक्ष रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. 

मेरठ: शहर में कूड़ा जलाने पर CPCB सख्त, नगर निगम को दो नोटिस जारी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें