शादी में फायरिंग के दौरान बाउंसर को लगी गोली, परिवार ने हाईवे पर शव रख किया हंगा

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 06:04 PM IST
  • मेरठ में शादी समारोह के बीच फायरिंग के गई. इस फायरिंग में गोली लगने से एक बाउंसर मोनू की मौके पर ही मौत हो गई. दरअसल, यह हादसा सरधना के एक गांव में हुआ. यह हादसा शुक्रवार की रात को हुआ.
शादी समारोह के बीच फायरिंग में लग गयी गोली

मेरठ. मेरठ में शादी समारोह के बीच फायरिंग के गई. इस फायरिंग में गोली लगने से एक बाउंसर मोनू की मौके पर ही मौत हो गई. दरअसल, यह हादसा सरधना के एक गांव में हुआ. यह हादसा शुक्रवार की रात को हुआ, वहीं शनिवार सुबह पीड़ित परिवार और ग्रामीण मोर्चरी से बाउंसर के शव को अपने गांव सकौती टांडा ले जा रहे थे. रास्ते में दौराला हाईवे पर सकौती गांव के सामने भीड़ ने शव हाईवे पर रख जाम कर दिया. पीड़ित परिवार की मांग है कि पुलिस ना तो किसी आरोपी को पकड़ पाई है और ना ही यह बताने में सक्षम है कि आखिर बाउंसर मुजफ्फरनगर में अपनी ड्यूटी से शादी में कैसे पहुंचा.

वहीं, हाईवे पर एक तरफ मुजफ्फरनगर बॉर्डर और दूसरी तरफ दौराला तक ट्रैफिक जाम हो गया .दौराला इंस्पेक्टर पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचकर और जाम खुलवाने का प्रयास कर रहे हैं. दौराला थाना क्षेत्र के सकौती टांडा गांव निवासी मोनू मुजफ्फरनगर में केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान के छोटे भाई विवेक बालियान के महिंद्रा एंड महिंद्रा शोरूम पर बाउंसर की नौकरी करता था. मोनू की पत्नी और एक बेटी है.

पहले पत्नी और तीन बच्चों का मर्डर फिर सुसाइड, पहली बीवी ने भी की थी आत्महत्या

परिजनों के मुताबिक मोनू शुक्रवार को अपनी ड्यूटी पर गया था. मगर बाद में पता चला कि मोनू सरधना के एक गांव में शादी समारोह में पहुंचा था. जहां हर्ष फायरिंग में मोनू के सिर में गोली लगी है. हालांकि, उपचार के दौरान मोनू की मौत हो गई थी. मृतक मोनू के भाई सोनू ने बताया कि पुलिस अभी तक यह नहीं बता पा रही है कि मोनू मुजफ्फरनगर में शोरूम से सरधना शादी में कैसे पहुंचा. किसने मोनू को गोली मारी. अभी तक एक भी आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार नहीं कर पाई है. उन्होंने चेतावनी दी कि जब तक उन्हें न्याय नहीं मिलेगा वह शव को हाईवे से नहीं हटाएंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें