बसपा नेता को नहीं मिला यूपी चुनाव का टिकट, फूट-फूट कर रोते हुए कहा- 50 लाख मांगे

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Fri, 14th Jan 2022, 6:59 PM IST
  • बसपा से कथिततौर पर टिकट के दावेदार मुजफ्फरनगर के नेता अरशद राणा ने टिकट न मिलने पर पार्टी पर आरोप लगाया है. उन्होंने पार्टी पर टिकट के बदले 50 लाख रुपये मांगे जाने की बात कही है. हाल ही इस मामले में उनका एक रोते हुए वीडियो सामने आया है. जिसमें वे टिकट न मिलने पर काफी परेशान दिखाई दे रहे हैं.
चरथावल विधानसभा क्षेत्र में बसपा की तरफ से उम्मीदवारी के लिए टिकट न मिलने पर रो पड़े अरशद राणा

मेरठ. मुजफ्फरनगर जिले के चरथावल विधान सीट पर टिकट बटवारे को लेकर एक ऐसी खबर सामने आई है, जिसने सियासी गलियारों में खलबली मचा दी है.  दरअसल शहर के कोतवाली थाने पर टिकट खरीद-फरोख्त को लेकर वसूली करने का मामला दर्ज कराया गया है. शिकायतकर्ता अरशद राणा ने बसपा की तरफ से चरथावल विधान सीट का टिकट न मिलने पर कोतवाली थाने के इंस्पेक्टर के सामने फूट-फूट कर रोया. साथ ही तहरीर देकर आरोप लगाया है कि बसपा प्रभारी ने उनसे टिकट के नाम पर 50 लाख रुपये की मांग की है.

बसपा नेता अरशद राणा ने कोतवाली थाने पहुंचकर अपने ही पार्टी के नेता व पश्चिमी यूपी प्रभारी शमसुद्दीन राईन के खिलाफ लाखों रूपए वसूली करने के मामले में तहरीर दी है. शिकायत दर्ज कराने के दौरान बसपा नेता अरशद राणा ने कोतवाली थाना इंस्पेक्टर के सामने फूट-फूटकर रोया और उन्हें चेताया भी कि अगर इस मामले में उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो वह आत्मदाह कर लेंगे.

BSP नेता- टिकट के लिए 50 लाख मांगे जा रहे हैं अब तक 4.5 लाख दे चुका हूं

बसपा नेता अरशद राणा ने कहा कि मैं पार्टी के लिए पिछले 24 सालों से काम कर रहा हूं. उन्होंने बताया कि यूपी विधान सभा चुनाव 2022 के लिए चरथावल विधान सभा सीट पर बतौर उम्मीदवार उन्हें साल 2018 में ही बसपा ने औपचारिक रूप से टिकट देने की घोषणा कर दी थी. अब जब टिकट बटवारे का काम किया जा रहा है तो इस दौरान अरशद राणा बसपा पदाधिकारियों से संपर्क की कोशिश कर रहे हैं, मगर पार्टी की तरफ से कोई वाजिब जवाब नहीं मिल पाया है. इसी क्रम में आगे उन्होंने कहा कि अब उनसे टिकट के बदले 50 लाख रुपये की मांग की गई है. इसके एवज़ में पहले ही बसपा नेता अरशद राणा ने चरथावल सीट पर बसपा का उम्मीदवारी टिकट पाने के लिए करीब साढ़े 4 लाख रुपये दे चुके हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें