दारोगा अजीत भड़ाना ने सबके सामने दिया इस्तीफा, कहा- BJP वालों ने खून पी रखा है

Ruchi Sharma, Last updated: Mon, 31st Jan 2022, 3:59 PM IST
  • बुलंदशहर में तैनात वन दरोगा अजीत भड़ाना ने भारतीय जनता पार्टी के विधायकों पर आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि भाजपा के लिए समर्पित होने को उन पर दबाव बनाया जा रहा है. मंत्री और एक चर्चित विधायक उनको लगातार धमकी देते हैं. जिसके चलते वह इस्तीफा देकर समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं.
बुलंदशहर में तैनात वन दरोगा अजीत भड़ाना ने भरी सभा में दिया इस्तीफा

मेरठ. उत्तर प्रदेश के मेरठ के गांव करीमपुर में सोमवार को समाजवादी पार्टी की पंचायत चल रही थी. इस दौरान बुलंदशहर में तैनात वन दरोगा अजीत भड़ाना वहां पहुंचे. अजीत भड़ाना ने भारतीय जनता पार्टी के विधायकों पर आरोप लगाया कि उनका उत्पीड़न किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि भाजपा के लिए समर्पित होने को उन पर दबाव बनाया जा रहा है. उन्होंने आगे कहा कि मंत्री और एक चर्चित विधायक उनको लगातार धमकी देते हैं. जिसके चलते वह इस्तीफा देकर समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं.

उन्होंने कहा कि विधायक और मंत्री धमकाकर वोट मांगते हैं. बीजेपी वालों ने खून पी रखा है. जिसके चलते वह नौकरी छोड़कर समाज के लिए इस्तीफा दे रहे हैं. वन दरोगा अजीत भड़ाना ने प्रत्याशी की सभा में ही सपा का दामन भी थाम लिया. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

 

 

भाजपा के विधायकों पर लगाया धमकाने का आरोप

उन्होंने बताया कि भाजपा नेता अशोक कटारिया का फोन आया, सवाल किया कहां हो. बताया ड्यूटी पर हूं तो पूछा वोट किसे कर रहे हो. कहा कि आपके विधायक गाली देते हैं उनकी गाली सुनें और वोट भी दें. अजीत भड़ाना ने कहा कि कभी दिनेश खटीक तो कभी संगीत सोम का फोन आ जाता है और वह धमकाते हैं. परेशान हो गया हूं इसलिए त्यागपत्र दे रहा हूं. विभाग को भी पत्र भेज दिया है.

कागज पर लिखा इस्तीफा

वीडियो में देख सकते है कि अजीत भड़ाना ने माइक लेकर भाजपा पर तीखा हमला करते हुए दिख रहे हैं. इस दौरान उन्होंने एक कागज निकालकर सपा के एक कार्यकर्ता से पढ़ने को कहा. उस कागज में लिखा था कि, 'मैं अपनी पारिवारिक समस्याओं के चलते इस्तीफा दे रहा हूं. यह इस्तीफा वन संरक्षक एवं क्षेत्रीय निर्देशक मेरठ के नाम लिखा गया था.' दरोगा ने कहा कि यह भाजपा वाले किसी को नौकरी तो नहीं दे रहे, बस छीनने का काम कर रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें