मेरठ के ज्यादातर स्कूलों में नहीं दी जाएगी बस की सुविधा

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Feb 2021, 3:34 PM IST
  • मेरठ के ज्यादातर स्कूलों में छात्र-छात्राओं को अब बस की सुविधा नहीं दी जाएगी. पेरेन्ट्स को खुद ही बच्चों को स्कूल छोड़ना और वापस घर लाना पड़ेगा. सोशल डिस्टेंसिंग के तहत बसों में बच्चों की संख्या कम रहने और पेरेन्ट्स के बस के किराए में इजाफे से इंकार करने पर ये सुविधा नहीं मिलेगी.
मेरठ के स्कूलों में बसों की सुविधा नहीं

मेरठ: कोरोना काल से बंद पड़े स्कूलों को खोलने के आदेश के बाद पेरेंट्स के सामने एक नई समस्या खड़ी हो गई है. दरअसल मेरठ के ज्यादातर स्कूलों में छात्र-छात्राओं को अब बस की सुविधा नहीं दी जाएगी. सोशल डिस्टेंसिंग के तहत बसों में बच्चों की संख्या कम रहेगी और पेरेन्ट्स बस के किराए में इजाफेको तैयार नहीं हैं. इसी के चलते बस संचालक बच्चों को लाने-ले जाने के लिए राज़ी नहीं हो रहे हैं.

कोरोना के चलते करीब 10 महीने से स्कूल बंद थे. स्कूल खुलने के आदेश के बाद अब पेरेन्ट्स को बच्चों को स्कूल भेजने और लाने की चिंता सताने लगी है. अभी स्कूलों में सहमति पत्र के साथ केवल कुछ ही बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिया जाएगा. कम बच्चों के कारण बस सुविधा को शुरू नहीं किया जा रहा है.

मेरठ: युवक का आरोप सट्टेबाजी की शिकायत करने पर पुलिस ने शरीर से जबरन खून निकला

वहीं इस मामले में स्कूलों का कहना है कि कम बच्चों की वजह से बस संचालक तैयार नहीं हो रहे हैं और पेरेन्ट्स बस की फीस बढ़ाने को तैयार नहीं है. यही कारण है हफ्ते में कुछ दिन ही क्लास चलने को लेकर बस संचालन फिलहाल मुश्किल नज़र आ रहा है. जिसकी वजह से पेरेन्ट्स को अपने बच्चों को खुद ही स्कूल छोड़ना और ले जाना पड़ेगा.

मेरठ: बैकयार्ड पोल्ट्री योजना के तहत महिलाओं को मुर्गीपालन के लिए 5 हजार चूजे दिए जायेंगे

दीवान पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य एसके दुबे, बीडीएस स्कूल के प्रधानाचार्य गोपाल दीक्षित और कालका पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य डॉ कर्मेंद्र सिंह से इस बारे में बात की गई तो सभी ने बस की सुविधा देने से इंकार किया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें