कारोबारियों का ऐलान, सोमवार को प्रदेश भर में बंद के दौरान भी खुलेंगी मेरठ मंडी

Smart News Team, Last updated: 21/09/2020 12:29 AM IST
पूरे प्रदेश में रविवार से शुल्क समाप्ति को लेकर व्यापारी मंडल ने प्रदेश की मंडिया बंद करने का आह्वान किया है. जिस पर मेरठ के व्यापारियों ने कहा कि वे काली पट्टी विरोध करेंगे लेकिन मंडियां खुली रहेंगी.
प्रदेश भर की मंडियों के हड़ताल पर जाने के बावजूद मेरठ की मंडियां खुली रहेंगी.

मेरठ. मेरठ में व्यापारियों ने मंडी शुल्क खत्म करने को लेकर अलग रुख अपनाया है. मेरठ के व्यापारी अपनी मंडी बंद नहीं करेंगे बल्कि काली पट्टी बांधकर विरोध करेंगे. प्रदेश में सोमवार से मंडियों में हड़ताल है लेकिन मेरठ की मंडियां पूरी तरह से खुली रहेंगी. 

मंडी शुल्क की समाप्ति को लेकर उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापारी मंडल ने आंदोलन छेड़ दिया है. उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापारी मंडल के अध्यक्ष श्याम बिहार मिश्रा के आह्वान पर सोमवार से प्रदेश भर मंडियों में हड़ताल शुरू हो होगी. व्यापारी मंडल के इस आह्वान को मेरठ की मंडियों ने नहीं माना है. मेरठ मंडी ह़ड़ताल पर नहीं जाएंगी और खुली रहेंगी. मेरठ की मंडियों में व्यापारी हाथ में काली पट्टी बांधकर अपना विरोध दर्ज कराएंगे.

मेरठ की मंडियों में 6 दिनों तक हड़ताल, फलों-सब्जियों के बढ़ सकते हैं दाम

उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापारी मंडल ने मेरठ मंडी के व्यपारियों से इस हड़ताल को सफल बनाना का साथ मांगा. मेरठ के व्यापारियों ने कहा कि हमने व्यापारियों के आंदोलन का समर्थन किया है. इसीलिए हाथ पर काली पट्टी बांधकर विरोध कर रहे हैं लेकिन मेरठ मंडियां खुली रहेंगी. व्यापारियों ने कहा कि उनका ये विरोध 26 सितंबर तक जारी रहेगा.

मेरठ में महिला की संदिग्ध हालत में मौत, ससुराल वालों का दावा- फांसी लगाकर दी जान

रविवार को उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के जिला अध्यक्ष विष्णु दत्त पराशर ने पदाधिकारियों के साथ लोहियानगर मंडी के अध्यक्ष राजकुमार सोनकर, दिल्ली रोड नवीन मंडी के फल मंडी व्यापार मंडल के अध्यक्ष हाजी इरशाद कुरैशी, महामंत्री मोहम्मद नौशाद, फल मंडी के अध्यक्ष हाजी इरशाद कुरैशी के साथ बैठक करते हुए कहा मंडी के व्यापारियों, किसानों, मुनीम, पल्लेदार, मजदूर, ठेले वाले, टेंपो वालों के हित में मंडी शुल्क को समाप्त किया जाए. इसके लिए उन्होंने सभी से बंदी सफल बनाने की अपील की. व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारियों ने बंद से इंकार कर दिया. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें