मुजफ्फनगर के सिसौरा में मनाई गई भाकियू संस्थापक महेंद्र सिंह टिकैत की 85वीं जयंती

Smart News Team, Last updated: 06/10/2020 07:20 PM IST
मुजफ्फरनगर में भारतीय किसान यूनियन के संस्थापक महेंद्र सिंह टिकैत का 85वीं जयंती उनके गांव सिसौरा में मनाई गई. सिसौरा के सांसद और केंद्रीय राज्य मंत्री संजीव बालियान और भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत ने श्रध्दांजलि दी. 
मुजफ्फरनगर के सिसौरा गांव में भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष महेन्द्र सिंह टिकैत की 85वीं जयंती मनाई गई.

मेरठ. मुजफ्फरनगर में किसान नेता महेंद्र सिंह टिकैत का 85वीं जयंती उनके गांव सिसौरा में मनाई गई. जन्मोत्सव मनाया गया. हर साल की तरह इस बार भी महेंद्र सिंह टिकैत की जयंती किसान जागृति दिवस के रूप में मनाई गई. मुजफ्फरनगर के सिसौली में आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय राज्य मंत्री संजीव बालियान ने महेंद्र सिंह टिकैत को श्रद्धा सुमन अर्पित किए. आपको बता दें कि महेंद्र सिंह टिकैत ने ही भारतीय किसान यूनियन की स्थापना की थी.  महेंद्र टिकैत के जन्मदिवस को किसान यूनियन के लोगों धूमधाम से मनाया. 

महेंद्र सिंह टिकैत के 85वें जन्मदिवस पर सिसौली के किसान भवन में कार्यक्रम आयोजित किया गया था. श्रध्दांजलि कार्यक्रम में स्थानीय सांसद एवं केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ संजीव बालिया, स्थानीय भाजपा विधायक उमेश मालिक और शामली के विधायक तेजेन्द्र निर्वाल ने टिकैत को श्रध्दांजलि दी. वही समाजवादी पार्टी के नेता राजीव बालियान समेत बड़ी संख्या में चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के अनुयायियों ने भी वहां पहुंचकर श्रध्दांजलि अर्पित की. 

अमानवीय! मेरठ में गोवंश पर फेंका तेजाब, बचाने आए पशु प्रेमी

वर्तमान में भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष और बालियान खाप के चौधरी नरेश टिकैत ने मुंडभर गांव के लोगो के साथ महेंद्र सिंह टिकैत की जयंती को मनाया. इसके बाद वह सिसौल में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे. भकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत ने अपने भाइयो नरेंद्र टिकैत, सुरेंद्र टिकैत और पुत्र गौरव टिकैत के साथ महेंद्र सिंह टिकैत के चित्र पर माल्यार्पण किया.

बिजलीकर्मियों के काम ठप करने के दूसरे दिन निरीक्षण को ऊर्जा भवन पहुंचे DM-एसएसपी

आपको बता दें कि महेंद्र सिंह टिकैत जब तक जीवित थे तब तक उन्होंने किसानो की समस्याओ के लिए संघर्ष करते रहे. उन्होंने देश के तमाम हिस्सों में किसान आंदोलनों का नेतृत्व किया. अपने गांव सिसौली से ही उन्होंने सबसे पहले किसानों के मुद्दों की बात उठाई थी. जहाँ अब हर साल उनका जन्मदिवस बड़े धूमधाम से मनाया जाता है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें