मेरठ: रिक्शा पलटने से सड़कों पर बिखरी मरीजों के कोरोना सैंपल की ट्यूब

Smart News Team, Last updated: 11/08/2020 10:30 AM IST
  • डिस्पोजल के लिए रिक्शे पर लादकर ले जाया जा रहा था कोरोना सैंपल का ट्यूब सड़कों पर सैंपल बिखरने से कोरोना संक्रमण के फैलने का बढ़ा खतरा
प्रतीकात्मक तस्वीर 

मेरठ। मेरठ जिले में रविवार को कोरोना मरीजों के जांच का सैंपल ट्यूब लादकर ले जा रहा रिक्शा अचानक पलट गया जिससे सारा सैंपल सड़कों पर बिखर गया. आनन-फानन में कर्मचारियों ने डिस्पोजेबल थैले में सारे ब्लड सैंपल ट्यूब भरे और बायो मेडिकल वेस्ट निस्तारण प्लांट के लिए भिजवा दिए।

देश के प्रधानमंत्री सहित सूबे के मुख्यमंत्री भी कोरोना को लेकर बेहद सजग नजर आ रहे हैं. इसको लेकर उन्होंने तमाम गाइडलाइंस भी जारी की है. बावजूद इसके स्वास्थ्य महकमा ही कोरोना काल में लापरवाही करते हुए नजर आ रहा है जबकि इस महामारी में सबसे बड़ा रोल स्वास्थ्य महकमे का ही है. बावजूद इसके स्वास्थ्य महकमा महामारी को लेकर सजग नजर नहीं आ रहा है.

बता दें कि लाला लाजपत राय मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबायोलॉजी टेस्टिंग लैब से कोरोना पॉजिटिव और निगेटिव मरीजों के ब्लड सैंपल ट्यूब सफाई कर्मी रिक्शे में ले जा रहे थे.मेडिकल परिसर में प्रधानाचार्य कार्यालय से कुछ दूर पर अचानक रिक्शा पलट गया जिससे थैले में भरे सैकड़ों ब्लड सैंपल ट्यूब सड़क पर बिखर गए. इसकी जानकारी मिलते ही हड़कंप मच गया. आनन-फानन में कर्मचारियों ने डिस्पोजेबल थैले में सारे ब्लड सैंपल ट्यूब भरे और बायो मेडिकल वेस्ट निस्तारण प्लांट के लिए भिजवा दिया.

इसके बाद उस पूरी सड़क को सैनिटाइज कराया गया। सड़क पर गिरे ब्लड सैंपल ट्यूब कोरोना जांच के हैं जिनमें पॉजिटिव और निगेटिव दोनों के ही सैंपल शामिल हैं.इनके सड़क पर बिखरने के बाद संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है.

सीएमएस को बंद गाड़ी में ले जाने है प्रावधान

डा. धीरजराज ने कहा कि बायो मेडिकल वेस्ट लेने बंद गाड़ी आती है. किसी भी तरह का बायो मेडिकल वेस्ट हमेशा बंद गाड़ी में ही ले जाया जाता है जिससे लोग संक्रमित ना हो सके.

बंद गाड़ी तक पहुंचाने के लिए रिक्शे से ब्लड सैंपल ट्यूब ले जाए जाते हैं. यह प्रक्रिया सही नहीं है. ठेकेदार को निर्देश दिया गया है कि माइक्रोबायोलॉजी लैब से बायो मेडिकल वेस्ट एकत्र कर बाहर बंद गाड़ी में थैले रखकर ले जाएं. रिक्शे का उपयोग नहीं किया जाएगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें