मेरठ: बेटे के नाम को लेकर दंपत्ति में हुआ झगड़ा, थाने पहुंचा मामला

Smart News Team, Last updated: 02/02/2021 02:13 PM IST
  • मेरठ से हाल ही में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आ रहा है. दरअसल, यहां पर माता-पिता के बीच केवल इस बात को लेकर लड़ाई हो गई कि बच्चे का नाम क्या रखा जाएगा.
बेटे के नाम को लेकर दंपत्ति में हुआ झगड़ा (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मेरठ से हाल ही में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आ रहा है. दरअसल, यहां पर माता-पिता के बीच केवल इस बात को लेकर लड़ाई हो गई कि बच्चे का नाम क्या रखा जाएगा. इतना ही नहीं, दोनों के बीच यह झगड़ा इतना बढ़ गया कि मामला थाने तक पहुंच गया. यह मामला टीपीनगर थाने क्षेत्र का है. यहां पर सोमवार को पति-पत्नी अपने बेटे के नामकरण को लेकर थाने पहुंच गए, हालांकि, बाद में पुलिस ने किसी तरह से दोनों को शांत करवाया.

दरअसल, शारदा रोड, ब्रह्मपुरी निवासी युवक का दूसरे समुदाय की युवती से प्रेम-प्रसंग था. दोनों ने सहमति से दो साल पहले आर्य समाज मंदिर में शादी की. दोनों का एक बेटा भी है. शादी के बाद महिला मायके भी जाने लगी है. वहीं, इस मामले में पुलिस ने बताया कि महिला को उसकी मां ने उकसाया कि वह पति से रीति-रिवाज के अनुसार निकाह करे. इसके चलते महिला ने अपने पति पर दबाव बनाया.

मेरठ: पुलिस ने होटल में चल रहे देह व्यापार का किया भंडाफोड़, चार लोगों पर मुकदमा

युवती का कहना है कि जब वह धर्म छोड़कर मंदिर में शादी कर सकती हूं तो वह मेरे लिए निकाह क्यों नहीं कर सकता. इसे लेकर दंपती में तकरार है. जिसके कारण दोनों टीपीनगर थाने पहुंचे. पुलिस ने दोनों को सुना और युवक के परिजनों को बुला लिया. देर शाम थाने में पंचायत चली. पुलिस ने फिलहाल दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर शांत करके घर भेज दिया है. वहीं, पुलिस ने बताया कि मां ने बेटे का नाम तैमूर रखा है, जबकि पिता ने बद्रीनाथ रखा. इसको लेकर भी बखेड़ा हुआ. युवक ने बताया कि पत्नी बेटे को लेकर मायके में गई थी. वहां उसका खतना करा दिया. विरोध करने पर उसे धमकी दी गई.

इस मामले को लकेर सीओ ब्रह्मपुरी अमित कुमार राय का कहना है कि दोनों के बीच समझौता कराया जा रहा है. महिला की मां ने इस मामले को तूल दिया है. हालांकि दंपत्ती दो साल से टीपीनगर क्षेत्र के मलियाना में किराए के मकान में शांतिपूर्वक रह रहे थे. महिला की मां को सख्त हिदायत दी है कि वह दंपत्ती के बीच हस्तक्षेप न करें. अन्यथा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

नगर निगम की लापरवाही से वीरनगर के लोग परेशान, बदबू के कारण सांस लेना हुआ मुश्किल

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें