दहेज के मामले में कोर्ट ने IPS को किया बरी, दो महीने पहले किया था सरेंडर

Smart News Team, Last updated: Thu, 11th Mar 2021, 1:19 PM IST
  • मेरठ में आईपीएस अमित निगम पर दो साल से दहेज का मामला चल रहा था. हालांक, अब उन्हें कोर्ट से जमानत मिल गई है. अमित निगम की पत्नी और उसके पिता कोर्ट में अपने बयानों से मुकर गए थे.
दहेज उत्पीड़न में कोर्ट ने IPS को किया बरी, दो साल से चल रहा था मामला (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मेरठ में पिछले दो साल से आईपीएस पर चल रहे दहेज उत्पीड़न के मामले में अधिकारी को बरी कर दिया गया है. अदालत में आईपीएस की पत्नी और उसके पिता अपने बयान से मुकर गए थे. यह घटना सिविल लाइन थाना क्षेत्र की है. यहां के सुभाष नगर में रहने वाले आईपीएस अधिकारी अमित निगम की शादी 27 नवंबर 2015 को शास्त्रीनगर निवासी नम्रता से हुई थी.

नम्रता ने आरोप लगाया था कि शादी में पिता ने ऑडी कार और काफी सामान दिया था. हालांकि, शादी के कुछ दिन बाद ही ससुराल वाले दहेज में एक करोड़ रुपये मांगने लगे थे. विरोध करने पर नम्रता की पिटाई की जाती थी. आरोप था कि 30 अप्रैल 19 को अमित ने घर आकर नम्रता के साथ मारपीट की और उसे जान से मारने की भी धमकी दी थी.

लड़कियों को छेड़ रहा हिस्ट्रीशीटर, विधवा मां ने लगाई एसपी से गुहार

जिसके बाद नम्रता ने पति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था. मामले को लेकर वकील धर्मवीर सैनी ने बताया कि मामला एसीजेएम श्याम बाबू की अदालत में चल रहा था. सुनवाई के दौरान विवाहिता और उसके पिता चरण दास अपने बयानों से मुकर गए. उन्होंने कहा कि ऑडी कार विवाहिता की मां के नाम थी, जो उन्होंने ही बेच दी थी.

नम्रता पति से अलग रहकर गुरुग्राम में नौकरी कर रही थी, वह, गिरकर चोटिल हो गई थी. जिसके बाद पति से विवाद के बाद उसने गुस्से में आरोप लगाए थे. इसके बाद कोर्ट ने आईपीएस अमित निगम को बरी कर दिया. बता दें, दो साल से मामला न्यायालय में चल रहा था. वहीं, तीन महीने पहले आईपीएस ने कोर्ट में सरेंडर किया था और कुछ देर बाद ही उनकी जमानत हो गई थी.

बिजली विभाग की टीम पर किया जानलेवा हमला, मीटर लगाने गए थे कर्मचारी

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें