दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे: मुआवजे की मांग को लेकर 28 गांवों के किसानों की पदयात्रा

Smart News Team, Last updated: 14/09/2020 02:37 PM IST
  • सोमवार को पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत मेरठ गाजियाबाद जिले के करीब 28 गांवों के किसान पद यात्रा पर निकलेंगे. किसानों की मांग है कि डासना से मेरठ दिल्ली एक्सप्रेसवे में एक समान मुआवजा दिया जाए.
दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे: मुआवजे की मांग को लेकर 28 गांवों के किसानों की पदयात्रा

सोमवार को पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत मेरठ गाजियाबाद जिले के करीब 28 गांवों के किसान गाजियाबाद कलेक्ट्रेट की पदयात्रा पर निकल गए हैं. किसानों की मांग है कि डासना से मेरठ दिल्ली एक्सप्रेसवे में एक समान मुआवजा दिया जाए. कई बार आश्वासन देने के बावजूद किसानों को मुआवजा नहीं मिल रहा है. इसके तहत किसानों ने पदयात्रा कार्यक्रम शुरू किया है. मेरठ गाजियाबाद जिले की सीमा पर स्थित प्रथमगढ़ गांव से किसानों की यह पदयात्रा शुरू हुई है. 

पूर्व जिला पंचायत सदस्य बबली गुर्जर ,सतीश राठी, पवन गुर्जर आदि के नेतृत्व में किसान पदयात्रा में शामिल हुए हैं. किसानों ने ऐलान किया है कि एक समान मुआवजे की मांग को लेकर अब आर-पार की लड़ाई होगी. किसानों ने मुआवजे की मांग को लेकर दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर पहले भी कई बार प्रदर्शन किया है. किसानों ने आरोप लगाया है कि हर बार उन्हें आश्वासन दे कर बहला दिया जाता है. इससे पहले 8 जुलाई को भी दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस वे पर किसानों ने मुआवजे की मांग को लेकर विरोध किया था.

मेरठ के बाजारों में सुरक्षा बढ़ाने के लिए लगेंगे CCTV कैमरे

जिसके कारण दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे के 31 किलोमीटर खंड पर काम बाधित हुआ था. वही एक्सप्रेस-वे का निर्माण कर रहे भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों ने कहा कि किसान उच्च मुआवजा के अलावा यह भी मांग करते हैं कि उनके गांव मुरादाबाद को डासना- मेरठ खंड से जोड़ा जाएं.

शादी के लिए दर्जी से बना फर्जी फौजी, मेरठ में मिलिट्री पुलिस ने कर लिया अरेस्ट

दरअसल दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे के महत्व को हम ऐसे समझ सकते हैं कि नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया द्वारा दिल्ली और मेरठ को जोड़ने वाले 96 किलोमीटर लंबे विनियमित यातायात एक्सप्रेस-वे को चार खंडों में विभाजित किया गया है. इसके शुरुआती बिंदु निजामुद्दीन और मेरठ के भागापुर में समापन बिंदु है. यह मार्ग आनंद विहार और मेरठ के बीच NH-58 सहित महत्वपूर्ण भीड़भाड़ वाले बिंदुओं को कवर करता है ,जो मोदीनगर और मुरादनगर से गुजरता है. एक्सप्रेस-वे के सभी खंड पूरी तरह से कार्यशील है और दिल्ली मेरठ के बीच यात्रा के समय को 60 मिनट से भी कम में निर्धारित करते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें