दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर इन यात्रियों को नहीं देना होगा टोल टैक्स! जानें 10 यात्राओं के लिए छूट का खास ऑफर

Ankul Kaushik, Last updated: Sat, 11th Sep 2021, 10:20 AM IST
  • दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर सफर करने वाले यात्रियों के लिए एक बड़ी खबर है. अब इस एक्सप्रेस वे पर सफर करने वालो यात्रियों को एक विशेष छूट मिल रही है जिसमें यात्रियों को एक महीने में 10 यात्राओं पर टोल टैक्‍स नहीं देना पड़ेगा.
दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस वे पर टोल टैक्स में मिलेगी विशेष छूट (फाइल फोटो)

मेरठ. अगर आप अपने वाहन से दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे रोजना सफर करते हैं तो ये खबर आपके लिए है. अब दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर रोजाना सफर करने वालों को टोल टैक्स में विशेष छूट मिल रही है. इस छूट के तहत दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर रोजाना सफर करने वालों को एक महीने में 10 यात्राओं पर टोल टैक्‍स नहीं देना पड़ेगा. इसके लिए एक्सप्रेस-वे पर रोजाना यात्रा करने वालों के लिए एक महीने का पास बनेगा और यह सुविधा टोल वसूली शुरू होते ही यह व्‍यवस्‍था लागू की जाएगी. इस ऑफर के लिए पहले आपके फास्टैग खाते से धनराशि कटेगी और बाद में एक महीने पूरा होने पर 10 यात्राओं का पैसा खाते में वापस आएगा. लेकिन यह ऑफर रोजान सफर करने वालों के लिए ही जो एक महीने में इस एक्सप्रेस-वे पर रोजाना सफर करगें वह इस छूट का लाभ ले सकेंगे.

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर टोल टैक्स पर मिल रही इस छूट के बारे में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के परियोजना निदेशक मुदित गर्ग ने पूरी जानकारी दी है. मुदित गर्ग ने कहा कि दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर जो वाहन एक महीने में 60 यात्रा करेगा उसे 10 यात्राओं पर टोल टैक्‍स नहीं देना होगा. ऐसे यात्रियों से महीने की 60 यात्राओं में से 50 यात्राओं का टोल लिया जाएगा. हालांकि प्रतिदिन फास्टैग खाते से धनराशि कटती जाएगी लेकिन एक महीना पूरा होते ही 10 यात्रा की धनराशि वापस कर दी जाएगी.

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के किनारों से हटेंगी होर्डिंग्स, मंडलायुक्त का निर्देश

इसके साथ ही रोजाना सफर करने वाले यात्रियों को एक पास भी मिलेगा और इसके साथ ही उनके वाहन पर लगे फास्टैग में उस पास की कोडिंग डाल दी जाएगी. वहीं एक्सप्रेस-वे की नियमावली में स्थानीय पास की कोई व्यवस्था नहीं है क्योंकि कुछ लोग हाईवे की तरह दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर भी स्थानीय पास की तैयारी करके बैठे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें