दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल: स्टेशनों के पास बनेंगे न्यू टाउनशिप, विकसित होंगे क्षेत्र

Smart News Team, Last updated: Thu, 5th Aug 2021, 1:41 PM IST
  • दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे से मेरठ से दिल्ली के बीच रैपिड रेल के करीब एक दर्जन स्टेशनों के पास न्यू टाउनशिप बनेगी. ऐसा पहली बार होगा कि आनंद विहार, साहिबाद से लेकर मेरठ के बीच चौड़ी सड़कों के बीच रैपिड रैल चलेगी. दिल्ली से मेरठ के बीच चलने वाली रैपिड रेल 82 किमी क्षेत्र में होगी.
दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल: स्टेशनों के पास बनेंगे न्यू टाउनशिप, विकसित होंगे क्षेत्र

मेरठ. दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे से मेरठ से दिल्ली के बीच रैपिड रेल के करीब एक दर्जन स्टेशनों के पास न्यू टाउनशिप बनेगी. ऐसा पहली बार होगा कि आनंद विहार, साहिबाद से लेकर मेरठ के बीच चौड़ी सड़कों के बीच रैपिड रैल चलेगी. वहीं इससे दिल्ली, गाजियाबाद और मेरठ में मेट्रो में ज्यादा लोग यात्रा करने लगे जिससे कि इससे भी बढ़ावा मिलेगा.

दिल्ली से मेरठ के बीच चलने वाली रैपिड रेल 82 किमी क्षेत्र में होगी. इसमें से 14 किमी के एरिया राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आता है. जो कि घनी आबादी वाली विकसित जगह है. राजधानी दिल्ली में रैपिड रेल के लिए तीन स्टेशन प्रस्तावित है. आनंद विहार के बाद यूपी के गाजियाबाद की सीमा शुरू होती है. बता दें कि आनंद विहार, साहिबाबाद और गाजियाबाद के स्टेशनों के पास विकसित इलाका है. यह बात नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन (एनसीआरटीसी) के अधिकारियों ने बताई है. 

एनसीआरटीसी के अधिकारियों ने आगे बताया कि गाजियाबाद जिले में साहिबाबाद से दुहाई के बीच 17 किमी के एरिया रैपिड रेल के लिए है. इन दोनों जगहों से आगे गुलधर, दुहाई, मुरादनगर, मोदीनगर साउथ और मोदीनगर नार्थ तक के इलाकों में न्यू टाउनशिप की संभावना है. स्टेशनों के दोनों तरफ 500-500 मीटर की जगह को विकसित किया जाएगा. इसमें व्यापार से जुड़े काम, फूडलेट आउटलेट, एटीएम, मार्केट कांम्पलेक्स आदि होंगे.

रैपिड रेल की प्रमुख बातें- 82.15 किमी का दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर, 70.50 किमी एलिवेटेड, 11.65 किमी अंडरग्राउंड, 14 किमी का हिस्सा रहेगा दिल्ली, 68.15 किमी रहेगा मेरठ, गाजियाबाद में (यूपी में), 17 किमी साहिबाबाद से दुहाई के बीच संचालन 2023 से है प्रस्तावित और साल 2025 में मेरठ से दिल्ली तक प्रस्तावित है संचालन.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें