नशा मुक्ति केंद्र को बनाया अपहरण का अड्डा, बंधक बनाकर करते थे लाखों की वसूली

Smart News Team, Last updated: Wed, 2nd Dec 2020, 12:31 AM IST
  • मेरठ में हाल ही में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. दरअसल, शहर में नशा मुक्ति केंद्र की आड़ में अमित चौधरी और अंकुर विकल ने अपहरण का अड्डा खोल रखा है. नशे का आदी बताकर लोगों को जबरन नशा मुक्ति केंद्र में बंधक बनाकर रखते है.
मेरठ मुक्ति केंद्र में चल रहा था अपहरण का अड्डा

मेरठ: मेरठ में हाल ही में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. दरअसल, शहर में नशा मुक्ति केंद्र की आड़ में अमित चौधरी और अंकुर विकल ने अपहरण का अड्डा खोल रखा है. नशे का आदी बताकर लोगों को जबरन नशा मुक्ति केंद्र में बंधक बनाकर रखते है. उन्हें छोड़ने की ऐवज में मोटी रकम वसूली जाती है. ऐसा ही कुछ कुलदीप के साथ भी हुआ. कुलदीप को जबरदस्ती नशे का आदी बताकर ढाई लाख की रकम वसूली गई थी, अभी तक इस रैकेट से जुड़े लोगों को पुलिस पकड़ नहीं पाई है.

वहीं, इस मामले में एएसपी ने नशा मुक्ति केंद्र के सभी रिकॉर्ड कब्जे में ले लिए है. साथ ही इसका लाइसेंस निरस्त करने के लिए डीएम को रिपोर्ट भेजी जा रही है. फिलहाल नशा मुक्ति केंद्र का एक संचालक और स्टाफ फरार हो गया है. पुलिस ने उसकी पत्नी को हिरासत में ले रखा है.

मेरठ : एमएलसी चुनाव कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान शुरू

बता दें, अंकुर विकल और अमित चौधरी इतने दबंग है कि जो उनका विरोध करता है वह उसे जेल भिजवा देते हैं. कुलदीप ने इसका भंडाफोड़ किया तो उसे भी परतापुर थाने से उसे जेल भिजवा दिया था. उस समय परतापुर पुलिस पर कई सत्ता पक्ष के नेताओं की सिफारिश भी आई थी. संचालकों से जुड़ी हुई महिला आरती भाजपा नेता है, जो सत्ताधारी नेताओं की सिफारिश पुलिस पर करा देती है. यही कारण है कि अंकुर विकल और अमित चौधरी नशा मुक्ति केंद्र की आड़ में लोगों को अगवा कर मोटी रकम वसूलते रहे है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें