मेरठ में ड्रग्स माफिया सत्येंद्र गिरफ्तार, खपत बढ़ने पर ऑनलाइन बेच रहे थे माल

Smart News Team, Last updated: Wed, 30th Sep 2020, 2:49 PM IST
  • मेरठ. माफिया सत्येंद्र को पुलिस ने एक किलो 300 ग्राम गांजे के साथ गिरफ्तार किया है. माफिया के दूसरे साथी राजू चौहान को पुलिस पहले जेल भेज चुकी है.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

मेरठ: जनपद मेरठ पुलिस ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए नशे के कारोबार में शामिल दूसरे साथी को भी गिरफ्तार कर कामयाबी हासिल की है. ड्रग्स माफिया सत्येंद्र को पुलिस ने एक किलो 300 ग्राम गांजे के साथ धर दबोचा. माफिया के दूसरे साथी राजू चौहान को पुलिस पहले ही जेल भेज चुकी है. ऐसे में पुलिस माल को मेरठ में सप्लाई करने वाले और दूसरे प्रदेश से माल लेकर आने वालों की तलाश में जुट गई है. इस घटना से माफियाओं में हड़कंप मच गया है.

बता दें कि सत्येंद्र पुत्र ओमप्रकाश निवासी काबुली रोड मोदीपुरम और राजू चैहान निवासी मवाना दोनों मिलकर सरकारी भांग के ठेके की आड़ में चरस, गांजा और अफीम का गौरख धंधा करते थे. माफियाओं ने मिलकर मेरठ में करीब आठ सरकारी भांग के ठेके लिए हुए थे. ठेकों की आड़ में यह ड्रग्स को बेचते थे.

आरोपी ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह गांजा, चरस और अफीम को उड़ीसा, पंजाब और अन्य प्रदेशों से मंगाते थे. उसके बाद माल को पैकिंग कर सप्लाई किया जाता था. माल की खपत बढ़ने को लेकर आरोपियों ने ऑनलाइन आर्डर भी लेना शुरु कर दिया था. आर्डर मिलने के बाद इनका लड़का माल को सप्लाई करने जाता था. लालकुर्ती पुलिस नें मंगलवार को जीरो माइल चैराहे से सत्येंद्र को गिरफ्तार किया था. जबकि दूसरे साथी राजू चैहान को पुलिस पहले ही जेल भेज चुकी है.

हाथरस गैंगरेप पर मेरठ में सीएम योगी का पुतला फूंक रहे दो कांग्रेसी गिरफ्तार

थाना प्रभारी पलावत हुए थे लाइन हाजिर

वहीं अब इस पूरे मामले में मेरठ एसएसपी अजय साहनी ने लालकुर्ती थाना प्रभारी रहे रविंद्र पलावत पर कार्रवाई करते हुए उन्हें लाइन हाजिर कर इंस्पेक्टर बृजेश सिंह को लालकुर्ती की कमान सौंपी थी. इंस्पेक्टर ने ड्रग्स माफिया सत्येंद्र पर कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार किया है.

बीते 19 सितंबर को एएसपी कैंट डॉ. ईरज राजा ने लालकुर्ती स्थित घौसी मोहल्ले में मूलचंद आटे वाले के मकान पर छापेमारी की थी. पुलिस ने भारी मात्रा में चरस, गांजा और अफीम की खेप पकड़ी थी. पुलिस ने मौके से चार आरोपियों को गिरफ्तार भी किया था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें