मेरठ: जश्न से मनाया गया ईस्टर संडे, चर्च में हुई विशेष प्रार्थना, गूंजे बधाई गीत

Smart News Team, Last updated: Sun, 4th Apr 2021, 4:58 PM IST
  • ईस्टर के मौके पर आज शहरभर में प्रभु यीशु के पुनर्जन्म की खुशियां मनाई गई. साथ ही विभिन्न गिरजाघरों में बधाई के गीत भी गूंजे. वहीं अनुयायियों ने सुबह-सुबह ही गिरजाघरों में मॉर्निंग सर्विस के तहत मोमबत्ती जलाकर विशेष प्रार्थना भी की.
मेरठ: जश्न से मनाया गया ईस्टर संडे, चर्च में हुई विशेष प्रार्थना, गूंजे बधाई गीत

मेरठ. आज यानी 4 अप्रैल को ईसाई धर्म का मुख्य त्योहार ईस्टर संडे है. इस मौके पर पूरे शहर के विभिन्न गिरजाघरों में बधाई के गीत गूंजे. अनुयायियों ने मॉर्निंग सर्विस के तहत प्रात:काल में ही गिरजाघरों में मोमबत्ती जलाकर विशेष प्रार्थना की. शहरभर में लोगों ने ईस्टर संडे को पूरे जश्न के साथ मनाते हुए एक-दूसरे को प्रभु यीशु के पुन: जीवित होने के दिन की बधाई दी. साथ ही चर्च में ईसाई धर्म के लोगों ने ईसा मसीह के जन्म की कहानी भी सुनी. वहीं धर्मगुरुओं ने कहा कि प्रभु यीशु का पुन: जन्म हो गया है. अब वे संसार के कष्टों से लोगों को मुक्ति दिलाएंगे.

ईसाई धर्म के अनुसार गुड फ्राइडे के दिन ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था. जिसके तीसरे दिन यानी ईस्टर संडे को वे दोबारा जीवित हुए थे. इस कारण ईसा मसीह के पुनर्जन्म के रूप में ईस्टर के त्योहार को मनाया जाता है. ईस्टर के मौके पर आज बिशप फ्रांसिस कलिस्ट ने रुडकी रोड पर स्थित सेंट जोसेफ कैथेडल में प्रभु यीशु के पुनर्जीवित होने का वृतांत सुनाया. वहीं पास्का की विशाल मोमबत्तियों को प्रभु यीशु के पुन: जीवित होने के प्रतीत के रूप में जलाया गया.

UP पंचायत चुनाव: वोटर्स को लुभाने के लिए हो रही मुर्गा पार्टी, चिकन की कीमतें हुईं डबल

इस मौके पर फादर जॉन सुमन ने कहा कि प्रभु यीशु का पुन:जीवित होना इस बात का प्रतीक है कि हम सबको यह उम्मीद रखनी चाहिए कि मनुष्य का वास्तिविक जीवन तो मृत्यु के पश्चात ही शुरू होता है. उससे पूर्व का सांसारिक जीवन तो अस्थाई है. मृत्यु के बाद हम सभी जीवित होंगे और स्वर्ग के राजा की सभा में उपस्थित रहेंंगे. इस अवसर पर फादर रॉय, फादर थॉमस, फादर यीशु अमृतम आदि ने भी सहभागिता की.

बैंक ने अगर गंदे और कटे फटे नोट लेने से किया इंकार तो अब खैर नहीं, RBI लगाएगा जुर्माना

ईस्टर के अवसर पर ईसा मसीह के पुनर्जन्म की खुशियां मनाते हुए चर्च क्वायर ने बधाई गीत गाए. इसके साथ ही शहरभर में स्थित विभिन्न गिरजाघरों जैसे कि लेखानगर स्थित सेंट जॉन्स चर्च, बच्चा पार्क स्थित सेंट थॉमस चर्च, रुड़की रोड स्थित सेंट पॉल्स चर्च, शास्त्रीनगर स्थित इवेंजलिकल चर्च में ईस्टर के त्योहार पर विशेष प्रार्थना हुईं.

कांग्रेस ने 17 जिलों के जिला पंचायत सदस्य के प्रत्याशियों की सूची जारी, देखें लिस्ट

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें