बिजलीकर्मियों के काम ठप करने के दूसरे दिन निरीक्षण को ऊर्जा भवन पहुंचे DM-एसएसपी

Smart News Team, Last updated: 06/10/2020 04:26 PM IST
पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निजीकरण के खिलाफ बिजलीकर्मियों के हड़ताल के दूसरे दिन मेरठ में डीएम और एसएसपी ने ऊर्जा भवन जाकर एमडी से बातचीत की. एमडी ने कहा कि आंदोलन का बिजली आपूर्ति पर कोई प्रभाव नहीं है.
PUVVNL के विरोध में बिजली कर्मियों की हड़ताल जारी, लोग परेशान

मेरठ. पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निजीकरण के फैसले के विरोध में मेरठ में बिजलीकर्मियों के हड़ताल के दूसरे दिन मंगलवार को डीएम और एसएसपी ऊर्जा भवन पहुंचे. बिजली कर्मचारियों के अनिश्चितकालीन हड़ताल को देखते हुए पुलिस प्रशासन और पावर काॅरपोरेशन अलर्ट पर है. जिसको देखते हुए मंगलवार को दोपहर में डीएम और एसएसपी ने ऊर्जा भवन पहुंचकर पीवीवीएनएल के प्रबंध निदेशक से बातचीत की.

मेरठ के डीएम के बालाजी और एसएसपी अजय साहनी पुलिस बल के साथ ऊर्जा भवन पहुंचे. उन्होंने विद्युत संयुक्त संघर्ष समिति के आंदोलन के बारे में पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अरविंद मलप्पा बंगारी से इस बारे में चर्चा की. एमडी अरविंद मल्लपा ने कहा कि फिलहाल कर्मचारी बहिष्कार पर हैं और आपूर्ति पूरी तरह से चालू है.

मेरठ: PUVVNL निजीकरण के विरोध में बिजलीकर्मियों की हड़ताल दूसरे दिन भी जारी

प्रबंध निदेशक ने अफसरों को बताया कि पश्चिमांचल के सभी 14 जिलों में तैयारियां पूरी है और प्रत्येक जिले में डीएम से बात करके वैकल्पिक इंतजाम पूरे कर लिए गए हैं. डीएम के बालाजी और एसएसपी अजय साहनी ने ऊर्जा भवन के कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया. इसके बाद डीएम और एसएसपी ने शहर के बाकी बिजलीघरों का निरीक्षण कर स्थिति का जायजा लिया.

RLD नेता जयंत चौधरी पर हाथरस में लाठीचार्ज का मेरठ में विरोध, कमिश्नरी को घेरा

आपको बता दें कि पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निजीकरण के फैसले के विरोध में बिजलीकर्मचारी सोमवार से हड़ताल पर चले गए हैं. मेरठ में भी हड़ताल दूसरे दिन भी जारी रही. प्रदर्शनकारी सुबह से ही ऊर्जा भवन पर पहुंचे. जिसके बाद प्रदर्शनकारियों ने सरकार और चैयरमेन के खिलाफ नारे लगाए. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिजली कर्मचारियों से हड़ताल खत्म करने की अपील की है. योगी सरकार ने बिजलीकर्मियों की हड़ताल को गैर-कानूनी बताया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें