मेरठ में फेक फेसबुक आईडी बनाकर ठगने वाले गैंग का बिल्डर बना शिकार!

Smart News Team, Last updated: 01/09/2020 02:37 PM IST
  • मेरठ में फेक फेसबुक आईडी बनाकर ठगी करने वाले गैंग ने बिल्डर को शिकार बनाया है. दोस्त की फेसबुक आईडी को क्लोन करके बिल्डर से पैसे हड़पे गए हैं.
मेरठ में फेक फेसबुक आईडी बनाकर ठगने वाले गैंग का बिल्डर बना शिकार

मेरठ. मेरठ में फेसबुक फेक आईडी बनाकर लोगों से ठगी करने का धंधा जोरों पर चल रहा है. कुछ दिनों पहले जिले में दो भाजपा नेताओं के एफबी अकाउंट्स को निशाना बनाया गया था. वहीं नौचंदी पुलिस इंस्पेक्टर के नाम पर फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर भी पैसों की मांग की गई थी. अब एक और मामला सामने आया है जिसमें शहर के एक बड़े बिल्डर को निशाना बनाया है. बिल्डर की फेसबुक आईडी को क्लोन करके उनके दोस्तों से पैसे मांगे गए हैं.

हालांकि इस बार ठग कामयाब नहीं हो पाए. बिल्डर के दोस्तों ने इसकी जानकारी पहले ही दे दी जिस कारण वो धोखाधड़ी से बच गए. मामला गढ़ रोड तक्षशिला कॉलोनी का है. वहां के निवासी कमल अग्रवाल शहर के बड़े बिल्डर हैं. कमल अग्रवाल को उनके कुछ दोस्तों ने फोन किया और जानकारी दी गई कि उनके नाम से फेसबुक पर पैसे मांगे जा रहे हैं. उनके दोस्तों ने बताया कि कमल अग्रवाल की एक और फेसबुक आईडी बनाई गई है और उससे पैसे मांगे जा रहे हैं.

मेरठ:नौचंदी पुलिस इंस्पेक्टर के नाम पर फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर पैसा माँगा

दोस्तों को अंदाजा था कि ये आईडी फेक है. उन्होंने बताया कि उनके पास कमल की नई आईडी से सोमवार को फेसबुक पर रिक्वेस्ट आई. रिक्वेस्ट भेजने वाले ने खुद को कमल अग्रवाल बताया और उनके दोस्तों को कहा कि वो मुसीबत में हैं. उन्होंने कमल के दोस्तों से 15 से 30 हजार की रकम मांगनी शुरू की. 

मेरठ: गांव में बैठकर हुई फेसबुक से ठगी, 38 FB अकाउंट बंद, कहीं आप तो शिकार नहीं

कमल के दोस्तों का फोन आते ही उन्होंने फेसबुक आईडी को चेक किया और देखकर हैरान रह गए कि कमल की ही एफबी आईडी से फोटो और अन्य जानकारी चुराकर नई फर्जी आईडी बनाई गई है. वहीं जानकारी मिलते ही कमल ने अपनी सही आईडी पर एक पोस्ट डालकर सभी दोस्तों को आगाह किया. साथ ही उन्होंने पुलिस कंट्रोल रूम और साइबर सेल को भी इसकी जानकारी दी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें