बिल नहीं चुकाने पर अस्पताल में शव को बनाया बंधक, परिजन ने चंदा जुटा छुड़ाया

Smart News Team, Last updated: Fri, 12th Feb 2021, 3:17 PM IST
  • मेरठ में मृतक के परिजन उसके शव को अस्पताल से छुड़ाने के लिए चंदा जुटाया. इतना ही नहीं मृतक का अंतिम संस्कार भी चंदा जुटाकर उसके परिजनों ने किया.
बिल नहीं चुकाने पर अस्पताल में शव को बनाया बंधक, परिजन ने चंदा जुटा छुड़ाया

मेरठ. मेरठ के एक परिवार ने घर के एक सदस्य के शव को चंदा जुटाकर हॉस्पिटल से छुड़ाया. वहीं उस दौरान परिजनों की कुछ लोगों के साथ हाथापाई भी हो गई, लइकन किसी ने भी पुलिस में इसकी तहरीर नहीं दी. वहीं शव को हॉस्पिटल से छुड़ाने के लिए परिजनों ने अपने पडोसी और मोहल्ले के लोगों से चंदा जुटाया. उसके बाद ही शव के अंतिम संस्कारी की प्रक्रिया निभाई गई.

यह पूरा मामला मेरठ के नौचंदी स्थित अस्पताल के पर हुआ. दरअसल लिसाड़ी गेट की शहजाद कॉलोनी निवासी शमशाद एक मजदूर है. वः माकन पुताई का काम करते थे. कुछ दिन पहले एक माकन में पुताई के दौरान शमशाद की तबियत ख़राब हुई और वह बेहोश हो गया. जिसके बाद उसे एक नर्सिंग होम में भर्ती किया गया. जहां पर उसकी गुरुवार को मौत हो गई. जब शव लेने के लिए शमशाद के परिजन पहुंचे तो अस्पताल वालों ने कहा की पहले 25 हजार का बिल जमा कीजिए तभी शव को ले जा पाएंगे.

वैलेंटाइंस डे पर अफेयर वार, बीवी से प्रेमिका को बचाने के लिए पति ने फोड़ा सिर

इसी दौरान शमशाद की शास ने कहा कि वह जहां पर काम करता था वह आकर बिल जमा करेगा. फिर भी अस्पताल के कर्मचारी नहीं माने जिसके बाद दोनों पक्षों में हाथापाई हो गई. इसी बीच सुचना पाकर पुलिस भी पहुंची लेकिन किसी ने भी उन्हें तहरीर देकर कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई. वहीं मृतक शमशाद के परिजनों ने जैसे तैसे 20 हजार चंदा से जुटाए और शव को अस्पताल से छुड़ाया. इतना ही नहीं उसका अंतिम संस्कार भी चंदे के पैसे से ही किया गया.

व्यापारी ने BJP नेता के बेटे से की लाखों रुपए की धोखाधड़ी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें