दिल्ली–मेरठ एक्सप्रेस वे पर पहले दिन ही हादसा, हाईवे रखरखाव में लापरवाही

Smart News Team, Last updated: Fri, 2nd Apr 2021, 11:53 AM IST
  • 1 अप्रैल से दिल्ली और मेरठ को जोड़ने वाले दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर लापरवाही के चलते दो गाड़ियों में भिड़ंत हो गई. इस टकराव में किसी की जान नहीं गया. यात्री दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस हाईवे से दिल्ली से मेरठ की यात्रा महज 45 मिनट में कर पाएगा.
दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर पहले ही दिन हादसा. ( सांकेतिक फोटो )

दिल्ली और मेरठ को जोड़ने वाली दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर पहले दिन ही दो वाहन आपस में टकरा गए. दोनों वाहन हाईवे पर किए गए डायवर्जन के कारण आपस में भीड़ गए. वाहनों की टक्कर इतनी खतरनाक थी कि उसमें एक ड्राइवर अपने गाड़ी में ही बुरी तरह से फंसा रहा. ड्राइवर को निकालने के लिए पुलिस की मदद लेनी पड़ी. इस हादसे में किसी ने जान नहीं गई है. हाइवे पर पहले दिन ही गलत तरीके से डायवर्जन के लिए गार्डर रखा दिया गया.

1 अप्रैल से चालू किए गए. इस हाइवे से यात्रियों को दिल्ली से मेरठ जाने में 45 मिनट समय लगेगा. इससे पहले दिल्ली से मेरठ जाने में 2:30 से 3 घंटे लगते थे. दिल्ली और मेरठ की दूरी को कम करने के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 में इस प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी थी. दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे प्रोजेक्ट को नवंबर 2019 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था. साल 2019 में कुछ खामियों के कारण और 2020 में कोरोना के प्रभाव के चलते काम बंद रहा था. 2021 में फिर काम शुरू हुआ. दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे को चार चरणों में पूरा किया गया है. जिसको 1 अप्रैल 2021 से देश वासियों के लिए खोल दिया गया.

इंस्पेक्टर ने कराया ऐसा अनोखा समझौता, हर दिन 108 बार गायत्री मंत्र का करेंगे पाठ

दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे के उद्घाटन के बाद से मेरठ वासियों में खुशी का माहौल है. 3 साल से अधिक अतिरिक्त समय लेकर तैयार किए गए. इस हाईवे से परतापुर से डसना तक की यात्रा मेरठ वासी अब 25 मिनट में पूरा कर सकेंगे. दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे मोदीनगर और मुरादनगर में लगने वाले जाम को भी कम करेगा.

मेरठ दिल्ली एक्सप्रेसवे शुरू, चलती गाड़ी में कटेगा टोल, जानें क्या है खास

योगी सरकार का फैसला- उत्तर प्रदेश कोविड-19 महामारी की चपेट में घोषित

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें