मेरठः फॉर्म हाउस बनाने पर हस्तिनापुर SO पर गिरी गाज, SSP ने किया लाइन हाजिर

Smart News Team, Last updated: 29/09/2020 11:53 PM IST
  • मेरठ के हस्तिनापुर के एसओ धर्मेन्द्र सिंह को आलीशान हाउस बनाने को लेकर लाइन हाजिर किया गया है. धर्मेन्द्र सिंह पर बिजली चोरी के मामले में भी मुकदमा दर्ज किया गया. उनकी जगह पर थाने का प्रभार क्राइम ब्रांच इंस्पेक्टर को दे दिया गया है.
हस्तिनापुर में आलीशान फाॅर्म हाउस बनाने को लेकर एसओ धर्मेन्द्र को लाइन हाजिर किया गया.

मेरठ. मेरठ के हस्तिनापुर में एसओ धर्मेन्द्र सिंह को आलीशान फॉर्म हाउस बनाने के मामले में एससपी ने लाइन हाजिर किया है. फिलहाल उनकी जगह क्राइम ब्रांच इंस्पेक्टर प्रवीण कुमार को थाने का चार्ज दे दिया गया है. एसएसपी मेरठ ने बताया कि उन पर जो आरोप हैं उसकी जांच चल रही है. जिसके बाद उन पर आगे की कार्रवाई की जाएगी. 

हस्तिनापुर में ढाई साल से एसओ रहे धर्मेन्द्र सिंह पर आरोप है कि उन्होंने अपने पत्नी के नाम से द्रोपदी घाट पर दो बीघा जमीन खरीदी और उस पर एक आलीशान फार्म हाउस बनाया. इस खुलासे के बाद एसएसपी अजय साहनी ने एसओ धर्मेन्द्र सिंह को लाइन हाजिर किया. उनकी जगह क्राइम ब्रांच इंस्पेक्टर प्रवीण कुमार को थाने का चार्ज दे दिया गया है. आईजी मेरठ ने धर्मेन्द्र सिंह पर चल रहे मामलों की जांच के लिए सीओ मवाना उदय प्रताप सिंह को जिम्मेदारी सौंपी है.

मेरठ के शराब माफिया पर कर्रवाई, मकान सहित एक करोड़ दस लाख की प्रॉपर्टी जब्त

इस मामले को लेकर एसएसपी मेरठ अजय साहनी ने कहा कि धर्मेन्द्र सिंह के खिलाफ जो आरोप हैं, उनकी जांच के निर्देश दिए जा चुके हैं. फिलहाल उनको लाइन हाजिर किया गया है. वहीं धमेन्द्र सिंह ने कहा कि वो जमीन मेरे ससुर ने मेरी पत्नी के नाम पर खरीदी है. इस जमीन से मेरा कोई संबंध नहीं है. सारे दस्तेवाज मेरी पत्नी के पास हैं जो जांच में दिए जाएंगे.

हाथरस पहुंचे मेरठ के सफाई कर्मचारी नेता, कांग्रेसी निकालेंगे जस्टिस मार्च

इस मामले को लेकर पूर्व विधायक गोपाल काली ने पत्रकारों से कहा कि धर्मेन्द्र सिंह ने इलाके में अवैध शराब की करीब 250 भट्ठी चलवाई हैं. इन सभी से पैसा लिया जाता था. उन्होंने शासन से जांच की मांग की है. इसके अलावा शिकायत मिलने पर बिजली विभाग ने एसओ धर्मेन्द्र सिंह के शास्त्रीनगर के घर पर छापेमारी करते हुए चोरी पकड़ी. इस संबंध में भी उन पर मुकदर्मा दर्ज किया जा चुका है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें