मेरठ में घायल गिद्ध का रेस्क्यू, चाइनीज मांझे ने छीना उड़ने का हक, कट गए पंख

Swati Gautam, Last updated: Mon, 10th Jan 2022, 10:57 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के मेरठ में वन विभाग की टीम ने एक घायल गिद्ध को रेस्क्यू किया है. टीम ने बताया कि गिद्ध चाइनीज मांझे की चपेट में आया जिससे उसे पंख बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं. उपचार के लिए घायल गिद्ध को कानपुर प्राणी उद्यान भिजवाया गया है. टीम ने युवाओं से चाइनीज माझें का बहिष्कार करने की अपील की है.
मेरठ में घायल गिद्ध का रेस्क्यू, चाइनीज मांझे ने छीना उड़ने का हक, कट गए पंख

मेरठ. पतंग उड़ाने में इस्तेमाल होने वाले चाइनीज मांझे से आए दिन बेजुबान पंरिदें और सड़क पर चलते लोग, वाहन चालक घायल होने के खबरे सामने आती रहती हैं. ऐसी ही एक खबर मेरठ से आ रही है जहां वन विभाग की टीम ने एक घायल गिद्ध को रेस्क्यू किया है. टीम ने बताया कि सेंट मैरी पब्लिक स्कूल के समीप उन्हें घायल गिद्ध के होने की खबर मिली जिसके बाद उसे रेस्क्यू कर लिया गया. टीम ने आगे बताया कि गिद्ध चाइनीज मांझे की चपेट में आया जिससे उसे पंख बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं. घायल गिद्ध उड़ने की लगातार कोशिश कर रहा था लेकिन वहा उड़ नहीं पा रहा था. उपचार के लिए घायल गिद्ध को कानपुर प्राणी उद्यान भिजवाया गया है.

डीएफओ ने की चाइनीज माझें का बहिष्कार करने की अपील

इस घटना के बाद से डीएफओ राजेश कुमार ने मेरठ के लोगों से अपील की है कि वह चाइनीज मांझे का बहिष्कार करें और बेजुबान पक्षियों को संरक्षित करने में मदद करें. उन्होंने कहा कि चाइनीज मांझे की चपेट में आकर न केवल बेजुबान पंरिदें शिकार हो रहे है, बल्कि सड़क पर चलते लोग, वाहन चालक भी इसका शिकार बनकर दुर्घटनाग्रस्त हो रहे है. वन विभाग के अधिकारियों ने भी मेरठ के युवाओं और लोगों से अपील की है कि वह पंतगबाजी में चाइनीज मांझे का कतई प्रयोग नहीं न करें.

पेंगुइन की ये Video आपको बखूबी समझा देगी परिवार की अहमियत, थम जाएंगी आपकी सांसें

घायल गिद्ध कानपुर प्राणी उद्यान में इलाज के लिए भेजा गया

डीएफओ राजेश कुमार ने आगे बताया कि सोमवार को वन विभाग को एक पक्षी के घायल होने की सूचना मिली. जिसके बाद टीम को पक्षी के रेस्क्यू करने के लिए भेजा गया. कैंट क्षेत्र में सेंट मैरी पब्लिक स्कूल के समीप खाली प्लॉट में घायल गिद्ध को रेस्क्यू किया गया. इस रेस्क्यू टीम में मेरठ रेंज से मोहन सिंह वन दरोगा एवं कमलेश कुमार वन्य जंतु रक्षक का महत्वपूर्ण योगदान रहा. जब घायल गिद्ध की प्रारंभिक जांच कराई गई तो पाया गया कि इस गिद्ध के पंख चाइनीज मांझा के कारण क्षतिग्रस्त हो गए थे. जिसके कारण गिद्ध उड़ दूर नहीं पा रहा था. घायल गिद्ध को कानपुर प्राणी उद्यान में इलाज के लिए भिजवा दिया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें