दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे: मुआवजे के लिए किसानों ने दिया 4 दिन का अल्टीमेटम

Smart News Team, Last updated: 29/09/2020 11:27 PM IST
  • दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे से जुड़े मामलें में मुआवजे को लेकर किसानों ने चार दिनों का अल्टीमेटम दिया. अगर फैसला नहीं तो आया तो गाजियाबाद कलक्ट्रेट का घेराव करने की धमकी. 
दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे

 मेरठ: बीते लंबे समय चल रहे दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे को लेकर किसानों और प्रशासन के बीच संघर्ष में मुआवजे को लेकर अब किसानों ने चार दिन का अल्टीमेटम दिया है. इस बार किसानों ने कहा है कि अगले चार दिन में शासन से आदेश नहीं हुआ तो गाजियाबाद कलक्ट्रेट का घेराव करने की योजना है. वहीं दूसरी ओर मोदीनगर के मुरादाबाद गांव में किसानों का धरना लगातार 13वें दिन भी जारी रहा.

जानकारी के मुताबिक दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे में एक समान मुआवजे की मांग को लेकर अब किसानों ने शासन, प्रशासन को अल्टीमेटम दे दिया है. वहीं मुरादाबाद गांव में 13 दिन से चल रहे धरने में मंगलवार को ऐलान किया गया कि गाजियाबाद प्रशासन की ओर से शासन को रिपोर्ट भेजने का दावा किया गया है. अब शासन स्तर पर इस पर फैसला आना है. किसानों का कहना है कि जब तक फैसला नहीं होगा तब तक मुरादाबाद में धरना जारी रहेगा. इस धरने का नेतृत्व कर रहे किसान संघर्ष समिति अध्यक्ष सतीश राठी ने कहा कि चार दिनों का अल्टीमेटम दिया है. यदि चार दिन में शासन स्तर से कोई फैसला नहीं हुआ तो किसान गाजियाबाद कलक्ट्रेट का अनिश्चितकालीन घेराव करेंगे. 

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे: मुआवजे की मांग को लेकर 28 गांवों के किसानों की पदयात्रा

वहीं, दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर चल रहा किसानों का धरना मंगलवार को 13वें दिन भी जारी रहा. इस बार बड़ी संख्या में किसानों की उपस्थिति धरने में दिखाई दी. धरने की अध्यक्षता हेम सिंह प्रधान, संचालन शक्ति गुर्जर ने किया. पूर्व जिला पंचायत सदस्य बबली गुर्जर, सतीश राठी, रालोद नेता चौधरी तेजपाल सिंह, भूपेंद्र, अशोक तेवतिया, रॉकी चौधरी, शत्रुजीत प्रमुख, कर्म सिंह ,मास्टर दलवीर, नेताजी महबूब अली, सुनील सेठ आदि ने धरने को संबोधित किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें