ठगों ने एक फोन से खाते में ट्रांसफर करा लिए 18 लाख, साइबर सेल जांच में जुटी

Smart News Team, Last updated: 01/10/2020 06:34 PM IST
  • मेरठ में आबूलेन स्थित पीएनबी की शाखा में 18 लाख की ठगी का मामले सामने आया है. ठगी करने वाले ने खुद को हुंडई शोरूम का स्वामी राहुल दास बताते हुए बैंक मैनेजर से मिलने की बात कही.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

मेरठ। पीएनबी की शाखा के मैनेजर अविनाश कुमार को साइबर ठगों ने 18 लाख का चूना लगा दिया. ठगी करने वाले ने खुद को हुंडई शोरूम का स्वामी राहुल दास बताते हुए बैंक मैनेजर से मिलने की बात कही. बताया गया कि मोदीनगर में शोरूम खोलना है. उसके लिए बैंक की लिमिट बनवानी है. मंगलवार को मिलने का समय तय हुआ. अचानक ही मैनेजर के पास फोन आया कि समय नहीं लग पाया. मीटिंग बुधवार की तय कर लेते हैं.

तभी बुधवार को राहुल दास के नाम से बैंक के सहायक प्रबंधक बलबीर गाबा पर काल आई. कहा गया कि बुधवार को भी समय नहीं लग पा रहा है. राहुल दास बनकर कालर ने बताया कि हम मोदीनगर में हैं. शोरूम से कर्मचारी विकास को चेक लेकर भेज रहे हैं. बैंक की तरफ से अभय प्रताप के खाते में आठ लाख 25 हजार 700 रुपये की रकम डाल दीजिए.

बैंक मैनेजर ने राहुल दास के खाते से नैनीताल उत्तराखंड में अभय के खाते में रकम स्थानांतरित कर दी. इसके बाद बिहार के शकील का दूसरा खाता बताया.उसमें नौ लाख 85 हजार 800 रुपये डालने के लिए कहा दोनों खातों में बिना चेक आए ही मैनेजर ने रकम स्थानांतरित कर दी. जब शाम तक चेक नहीं आया तो उस मोबाइल नंबर पर मैनेजर ने काल की तो कालर ने बताया कि शोरूम से कर्मचारी विकास का समय नहीं लग पाया है. खुद पहुंचकर चेक उठवा लें.

हाथरस कांड के विरोध में शहर में नहीं हुई सफाई, सड़क पर फैला रहा कूड़ा

जब बैंक से कर्मचारी चेक लेने हुंडई शोरूम पर गया. वहां पता चला कि राहुल दास की तरफ से कोई काल नहीं की गई. तुरंत ही बैंक मैनेजर ने नैनीताल उस खाते को सीज करा दिया. तब तक उससे 65 हजार की रकम निकाली गई थी.बिहार में डाली गई रकम खाते से निकाल ली गई. बैंक मैनेजर की तरफ से मेरठ के सदर बाजार थाने में तहरीर दी गई. वहीं मेरठ एसपी सिटी अखिलेश नारायण सिहं ने बताया कि साइबर सेल को जांच में लगा दिया है. माना जा रहा है कि रकम रिकवर कर ली जाएगी.

वही मोटर व्यवसायी राहुल दास का कहना है कि यह बैंक की गलती है. फर्जी नंबर से आई काल पर पैसा स्थानांतरित कर दिया है. यह बैंक की जिम्मेदारी है. किसी की तरफ से आई काल पर बैंक बिना चेक के पैसा कैसे स्थानांतरित कर सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें