आखरी मौका: चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में दूसरी मेरिट से प्रवेश का शुक्रवार को लास्ट डेट

Naveen Kumar Mishra, Last updated: Thu, 7th Oct 2021, 2:04 PM IST
  • चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के कैंपस में और उससे संबद्धता प्राप्त कॉलेजों में दूसरे मेरिट लिस्ट के आधार पर एडमिशन लेने का शुक्रवार को आखरी मौका है. चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय और इससे संबद्धता प्राप्त कॉलेज दूसरे कटऑफ के बाद ओपन मेरिट व्यवस्था शुरू करने की बात कही है.
फाइल फोटो

मेरठः चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के कैंपस में और उससे संबद्धता प्राप्त कॉलेजों में दूसरे मेरिट लिस्ट के आधार पर एडमिशन लेने का शुक्रवार को आखरी मौका है. बता दें विश्वविद्यालय में अभी दूसरे कटऑफ पर एडमिशन की रफ्तार काफी धीमी है. एडमिशन की धीमी रफ्तार की वजह से विश्वविद्यालय को शायद प्रवेश लेने की लास्ट डेट में बढ़ोतरी करनी पड़ सकती है. पहला कटऑफ निकलने के बाद भी एडमिशन लेने की रफ्तार काफी धीमी थी. विश्वविद्यालय को पहले कट ऑफ के आधार पर प्रवेश लेने के लिए लास्ट डेट को बढ़ाया गया था.

Lakhimpur Kheri: BJP सांसद वरूण गांधी भड़के, कहा- 'हत्या से किसानों की आवाज को चुप नहीं किया जा सकता'

ओपन मेरिट की होगी व्यवस्था

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय और इससे संबद्धता प्राप्त कॉलेज दूसरे कटऑफ के बाद ओपन मेरिट व्यवस्था शुरू करने की बात कही है. विश्वविद्यालय के अनुसार ओपन मेरिट में उन सभी विद्यार्थियों को एक बार फिर एडमिशन लेने का मौका दिया जाएगा जो पहले कट ऑफ और दूसरे कट ऑफ में एडमिशन लेने से चूक गए हैं.

लखीमपुर खीरी: प्रियंका गांधी बोली- निष्पक्ष जांच होने तक इस्तीफा दे गृह राज्य मंत्री

चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी के अनुसार पहले ओपन मेरिट सामान कॉलेज और सामान कॉलेज और कोर्स के लिए होगा. यानी विद्यार्थी जिस कॉलेज में अप्लाई किया है अर्जित कोर्स के लिए अप्लाई किया है केवल उसी कॉलेज और कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं. ता दें चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय और उससे संबद्धता प्राप्त कॉलेजों में ग्रेजुएशन के लिए दो लाख सीटें हैं. हालांकि अभी तक केवल एक लाख बारह हजार स्टूडेंटो ने ही पंजीकरण करवाया है. जानकारी दे दें सेल्फ फाइनेंस कोर्स और प्रोफेशनल कोर्स में स्थिति और भी खराब है. ऐसे में यूनिवर्सिटी को रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए फिर से पोर्टल शुरू करना पड़ सकता है. हालांकि रजिस्ट्रेशन फिर से शुरू करने के लिए यूनिवर्सिटी बैठक कर आगे फैसला लेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें