गंगा किनारे के 6 जिलों के गांवों में रोज होगी गंगा आरती, मंडल कमिश्नर का निर्देश

Smart News Team, Last updated: 02/03/2021 01:55 PM IST
  • गंगा किनारे बसे गांवों में रोज गंगा आरती होगी. मेरठ मंडल कमिश्नर अनीता सी. मेश्राम ने मेरठ, बुलंदशहर, गौतमबुद्धनगर, बागपत और हापुड़ के अफसरों के साथ मंडलीय विकास कार्यों की समीक्षा बैठक के दौरान ये निर्देश दिए.
गंगा किनारे बसे गांवों में होगी गंगा आरती

मेरठ: गंगा किनारे बसे गांवों में रोज गंगा आरती होगी. इसके लिए गंगा के किनारे चबूतरे बनाए जाएंगे ताकि गंगा आरती के वक्त कोई दिक्कत न हो. मेरठ मंडल कमिश्नर अनीता सी. मेश्राम ने मेरठ, बुलंदशहर, गौतमबुद्धनगर, बागपत और हापुड़ के अफसरों के साथ मंडलीय विकास कार्यों की समीक्षा बैठक के दौरान ये निर्देश दिए.

मंडल कमिश्नर ने बैठक के दौरान कहा कि गंगा किनारे के गांवों में गंगा आरती हर हाल में शुरू कराई जाए. कमिश्नर ने सभी 6 जिलों में 300 करोड़ के बजट से प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत बनने वाली सड़कों में मानकों का पालन करने के भी निर्देश दिए.

मेरठ जिला पंचायत चुनाव 2021 की आरक्षण सीटों पर आज लगेगी मोहर, जानें संभावित लिस्ट

दरअसल प्रदेश सरकार ने पिछले साल यूपी में गंगा किनारे आने वाले 1,038 गांवों में गंगा आरती के लिए चबूतरों का निर्माण कराने के निर्देश दिए थे. इसके साथ ही योगी सरकार ने लोगों को रोजगार का अवसर देने का भी निर्देश दिया था. वहीं, जल शक्ति मंत्रालय ने गंगा किनारे के इन गांवों में प्राचीन धर्म स्‍थलों और मंदिरों का विकास कर उन्‍हें पर्यटन स्‍थल के रूप में विकसित करने की योजना बनाई थी.

ट्रेवल्स एजेंसी के मालिक के घर चोरों ने डाली डकैती, शादी में गया था परिवार

गंगा आरती को गांवों और कस्‍बों से जोड़कर योगी सरकार गंगा स्‍वच्‍छता अभियान को सबसे बड़े जन अभियान का रूप देना चाहती है. गंगा आरती के लिए गंगा किनारे के 5 किलोमीटर के दायरे के गांवों को शामिल किया जाना है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें