गंगा स्वच्छता हॉफ मैराथऩ में मेरठ की ज्योति ने मारी बाजी

Smart News Team, Last updated: Wed, 4th Nov 2020, 3:40 PM IST
गंगा उत्सव के दौरान गंगा की स्वच्छता और जैव विविधता के संरक्षण के प्रति जन जागरूकता फैलाने के लिए हॉफ मैराथन का आयोजन. महिला वर्ग में मेरठ के मवाना की ज्योति ने पहला स्थान प्राप्त किया. मैराथन में 92 महिला प्रतिभागियों ने सिकरेड़ा से गंगा बैराज तक 10 किलोमीटर हाफ मैराथन में हिस्सा लिया. सहारनपुर मंडल के कमिश्नर संजय कुमार और डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल ने किया शुभारंभ.
मैराथन में मेरठ की ज्योति ने मारी बाजी

मेरठ- गंगा उत्सव के दौरान गंगा की स्वच्छता और जैव विविधता के संरक्षण के प्रति जन जागरूकता फैलाने के लिए हॉफ मैराथन का आयोजन किया गया. इस मैराथन में महिला वर्ग में मेरठ के मवाना की ज्योति जबकि पुरूष वर्ग में सहारनपुर के प्रिंस कुमार ने बाजी मारी. इस मैराथन का आयोजन मीरापुर के सिकरेड़ा स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय से आरंभ हुई. जिसका शुभारंभ सहारनपुर मंडल के कमिश्नर संजय कुमार और डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल ने किया. इस मैराथन में 92 महिला प्रतिभागियों ने सिकरेड़ा से गंगा बैराज तक 10 किलोमीटर हाफ मैराथन में हिस्सा लिया.

मेरठ: सौतेली मां से परेशान नाबालिग ने रची अपहरण की साजिश, लाखों रुपये लेकर फरार

मैराथन की प्रथम विजेता मवाना की ज्योति रही. उन्होंने दौड़ को 35:05 मिनट में पूरा किया. जबकि प्रयागराज के झोसी निवासी सविता पाल ने 35:07 मिनट में दौड़ पूरी कर दूसरा स्थान पाया. इसके अलावा मुज़फ्फरनगर के गांव रोहाना निवासी अर्पिता सैनी ने 35:08 मिनट में दौड़ पूरी कर तीसरा स्थान पाया.

4 नवंबर: लखनऊ कानपुर आगरा वाराणसी मेरठ में आज वायु प्रदूषण एक्यूआई लेवल

वहीं, पुरुष हाफ मैराथन की शुरूआत जानसठ के गांव सलारपुर से हुई. गंगा बैराज तक 21 किलोमीटर की दौड़ प्रतियोगिता का शुभारंभ मंडलायुक्त और डीआईजी ने किया. हाफ मैराथन में कुल 99 पुरुष प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया. सहारनपुर के जगेता नजीब निवासी प्रिंस कुमार ने 1.06.33 में दूरी तय कर पहला स्थान प्राप्त किया. जबकि वाराणसी के भदोई निवासी वासुदेव निशात ने 1 घंटा 6 मिनट 42 सेकेंड में दौड़ पूरी कर दूसरा स्थान पाया. इसके अलावा 

मुज़फ्फरनगर में जाट कालोनी निवासी रीनू कुमार ने एक घंटा 6 मिनट 44 सेकेंड में दौड़ पूरी कर तीसरा स्थान पाया. मैराथन के सभी विजेताओं को प्रतीक चिह्न और पुरुस्कार राशि का चेक देकर सम्मानित किया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें