गोपाल हत्याकांड: सरधना थाने पर बवाल पुलिस से हाथापाई, तोड़फोड़ और लाठीचार्ज

Sumit Rajak, Last updated: Wed, 2nd Feb 2022, 7:57 AM IST
  • सरधना में गोपाल हत्याकांड के विरोध में आक्रोशित लोगों ने मंगलवार सुबह थाने पर बवाल कर दिया. सीओ और अन्य पुलिसकर्मियों से हाथापाई कर बाहर खड़े कई वाहनों में तोड़फोड़ कर दी.गोपाल हत्याकांड के बाद से नगर में तनाव का माहौल है.सुरक्षा की दृष्टि से भारी पुलिस बल तैनात किया गया है. अधिकारियों ने भी नगर में गश्त कर हालात का जायजा लिया और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की.
फाइल फोटो

मेरठ. सरधना में गोपाल हत्याकांड के विरोध में आक्रोशित लोगों ने मंगलवार सुबह थाने पर बवाल कर दिया. सीओ और अन्य पुलिसकर्मियों से हाथापाई कर बाहर खड़े कई वाहनों में तोड़फोड़ कर दी. आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर थाने के गेट के सामने जाम लगाकर धरना देकर बैठ गए. इस बवाल बढ़ता देख डीएम, एसएसपी और सरधना विधायक मौके पर पहुंचे. उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन देकर मामला शांत कराया.

कुशावली निवासी गोपाल(19) पुत्र विनोद की सोमवार दोपहर सरधना के पांडुशिला रोड पर चौकी के बराबर में सुआं घोंपकर हत्या कर दी गई थी. इस घटना को लेकर क्षेत्र में तनाव फैल गया. मंगलवार सुबह करीब 11 बजे ग्रामीण आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर थाने पहुंचे. आक्रोशित भीड़ ने थाने में हंगामा कर पुलिस-प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी. सीओ आरपी शाही ने उन्हें समझाने की कोशिश की तो ग्रामीणों ने उनसे खींचतान कर दी. आक्रोशित भीड़ थाने के बाहर निकल आई और आसपास खड़े वाहनों में तोड़फोड़ कर दी. दुकानों का सामान फेंक दिया. मामला काबू करने के लिए पुलिस ने लाठियां फटकारी तो आक्रोश और भड़क गया. वही बवाल बढ़ता देखकर भारी पुलिस फोर्स को सरधना भेजा गया. ग्रामीण आरोपियों की धरपकड़ की मांग को लेकर थाने के गेट पर जाम लगाकर धरना देकर बैठ गए.

RLD बीजेपी को क्यों पसंद, पश्चिमी यूपी में चुनाव से पहले ही "चौधरी" बन गए हैं जयंत !

सूचना पर डीएम के.बालाजी और एसएसपी प्रभाकर चौधरी मौके पर पहुंचे. वहीं विधायक संगीत सोम भी आ गए. विधायक ने ग्रामीणों को समझा बुझाकर शांत कराया. डीएम और एसएसपी ने हत्याकांड में शामिल चार आरोपियों में से दो को गिरफ्तार करने की जानकारी दी. आश्वासन दिया कि बाकी को भी जल्द पकड़ा जाएगा. साथ ही पीड़ित परिवार को मुआवजे और बाकी आश्वासन दिए गए. इसके बाद ग्रामीण शांत हुए और वापस चले गए.

एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि गोपाल पर जानलेवा हमला करने के बाद वासु सीधा अपने गांव छुर पहुंचा. उसने पिता प्रमोद को बताया कि यहां से चलो में काम कर आया हूं. इसके बाद पिता पुत्र घर से फरार हो गए. उन्होंने बताया कि  31 जनवरी को सरधना में दो पक्षों के बीच विवाद हुआ था. गोपाल और वासु तालियान के बीच एक महिला मित्र को लेकर पूर्व में विवाद हुआ था. विशाल सोम ने इस मामले में पूर्व में समझौता कराया था. अब दोबारा कहासुनी हुई और हमला किया गय. दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, वासु व एक अन्य की धरपकड़ के लिए दबिश दी जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें