28 को होगी होली और शब-ए-बरआत साथ, मेरठ को छोड़ अन्य शहरों में दिखा चांद

Smart News Team, Last updated: Mon, 15th Mar 2021, 11:19 AM IST
  • मेरठ मे चांद देखने की काफी कोशिश करने के बाद शहर काजी प्रोफेसर जैनुस साजिद्दीन सिद्दीकी ने 28 को शब-ए-बरआत होने का ऐलान किया.इस बार ऐसा संयोग होगा कि एक तरफ होली का त्योहार मनाया जाएगा तो दूसरी तरफ शब-ए-बरआत मनाई जाएगी.
शनिवार को पूर्णिमा के दिन ब्लू रंग का चांद दिखाई देगा जो ब्लू मून कहलाएगा

मेरठ। रविवार को दिल्ली, लखनऊ, बिहार और देवबंद से शब-ए-बरआत का चांद नजर आने का ऐलान किया गया. हालांकि मेरठ में चांद नजर नहीं आ सका. अन्य दूसरे शहरों में चांद दिखाई दिया और वहीं से मिली सूचना के आधार पर मेरठ में भी शब-ए-बरआत चांद को मान लिया गया. मेरठ में दूसरे शहरों से संपर्क करने के बाद शहर काजी प्रोफेसर जैनुस साजिद्दीन सिद्दीकी ने 28 और 29 मार्च के बीच की रात शब-ए-बरआत होने का ऐलान किया.

कोतवाली स्थित ऊंची वाली मस्जिद में शहर काजी जैनुर राशिद्दीन की अध्यक्षता में चांद कमेटी की बैठक हुई. बैठक में कहा गया कि मेरठ में शब-ए-बरआत का चांद देखने की काफी कोशिश की गई लेकिन कोशिश के बावजूद यहां चांद नजर नहीं आया. मेरठ में चांद नजर न आने पर चांद कमेटी की बैठक में मौजूद शहर काजी प्रोफेसर जैनुस साजिद्दीन सिद्दीकी, जमीयत उलमा शहर अध्यक्ष जैनुर राशिद्दीन सिद्दीकी ने दूसरे शहरों में चांद दिख जाने की सूचना दी.

महिला की संदिग्ध हालत में मौत,मायके वालों ने होमगार्ड पति पर लगाया हत्या का आरोप

शहर काजी के अनुसार दिल्ली, लखनऊ, बिहार आदि शहरों में चांद देख लिए जाने की सूचना मिलने और वहां ऐलान हो जाने के बाद मेरठ में भी चांद कमेटी ने भी चांद को मान कर ऐलान कर दिया है. मेरठ में चांद कमेटी ने बैठक कर शहर काजी ने ऐलान किया कि 28 और 29 मार्च के बीच की रात को शब-ए-बरआत का त्योहार मनाया जाएगा. इसके साथ ही साथ जमीयत उलमा के शहर अध्यक्ष जैनुर राशिद्दीन सिद्दीकी ने सभी बच्चों और युवाओं से अपील करते हुए कहा कि शब-ए-बरआत का त्योहार सादगी से मनाएं. पूरी रात इबादत में गुजारें. आतिशबाजी कतई न करें.

खुलेआम शहर में तमंचा लेकर घूम रहे दो युवकों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

इधर होलिका दहन तो उधर शब-ए-बरआत

इस बार ऐसा संयोग होगा कि एक तरफ होली का त्योहार मनाया जाएगा तो दूसरी तरफ शब-ए-बरआत मनाई जाएगी. 28 मार्च की शाम को होलिका दहन भी होगा और दूसरी तरफ शब-ए-बरआत का त्योहार मनाया जाएगा. दोनों त्योहारों के एक ही साथ होने पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रखने के लिए जिला पुलिस और प्रशासन को अतिरिक्त मशक्कत करनी होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें