लॉकडाउन से खतरे में पड़ा 50 करोड़ का मछली पालन उद्योग, मरने लगी मछलियां

Smart News Team, Last updated: Wed, 5th May 2021, 1:48 PM IST
मेरठ शहर के सैकड़ों तालाबों में करीब 50 करोड़ रुपए से अधिक मछलियों का पालन व्यवसाय के लिए किया जाता है. इन मछलियों को रोज दवा और दाना डाला जाता है. लॉकडाउन लगने के कारण मछली पालन करने वाले मछलियों को दाना और दवा नहीं डाल पा रहे हैं. जिससे उनकी मछलियां मर रही है और उनके व्यवसाय को नुकसान हो रहा है.
लॉकडाउन से मछली पालन व्यवसाय नुकसान में. (प्रतीकात्मक फोटो)

मेरठ : बढ़ते संक्रमण के कारण प्रदेशभर में लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया गया है. लॉक डाउन के फैसले के कारण कई सारे उद्योग व्यवसाय बुरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं. जिनमें एक शामिल है मछली पालन व्यवसाय. साल 2018 में केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश की सरकार की नीली क्रांति योजना के तहत कई व्यवसायियों ने मछली पालन का काम शुरू किया था. इसमें मेरठ के मछली व्यवसायी भी शामिल हुए. आज मेरठ के सैकड़ों तालाबों में करीब 50 करोड़ रुपए से अधिक कि मछलियां पल रही है. मछली पालन करने वाले व्यवसायी इन मछलियों को रोज दाना और दवा देना पड़ता है. जिससे यह मछलियां बड़ी होती हैं और किसी बीमारी से बची रहती हैं.

इन मछलियों को बाद में बेचने पर काफी अच्छे दाम मिलते हैं. इस समय जब कोरोना वायरस की दूसरी लहर का सामना प्रदेश कर रहा है. तो सरकार बचाव के लिए लॉकडाउन लगा रही है. जिसका प्रभाव इन मछली व्यवसायी पर भी पड़ रहा है. लॉकडाउन और कर्फ्यू लगने से मछली व्यवसायी मछलियों को दाना और दवा नहीं दे पा रहे हैं जिससे उनकी तड़प कर मौत हो जा रही है. जो अब मछली व्यवसायियों के लिए चिंता और मुसीबत का व्यवसाय बन गया है. मछली पालन करने वाले व्यवसायी जिले के जिलाधिकारी से कर्फ्यू के दौरान मछलियों के तालाब पर आने-जाने की अनुमति मांगी है.

मेरठ : बीजेपी युवा मोर्चा कोषाध्यक्ष पंकज ग्रोवर का कोरोना संक्रमण से निधन

मछली पालन करने वाले मुफ्ती मोहम्मद अशरफ बताते हैं कि मेरठ जिले के 50 करोड़ रुपए से अधिक कि मछलियों को रोज दाना और दवा देना पड़ता है. लेकिन लॉकडाउन और कर्फ्यू के कारण मछली तालाब पर नहीं जा पा रहे हैं. जिससे मछलियां मरती जा रही है. इसलिए जिला प्रशासन से मांग है कि हमें कोरोना लॉकडाउन के दौरान मछलियों को दवा और दाना देने जाने की छूट दी जाए.

मेरठ: लापरवाही से 71 लोगों के RTPCR सैंपल खोया, संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ा

कोरोना का कहर- मई में होने वाली JEE मेन की परीक्षा स्थगित

मेरठ: CCSU समेत सभी डिग्री कॉलेज 31 मई तक बंद, कुलपति ने घोषित किया समर वैकेशन

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें