कोरोना संक्रमित होने से किर्गिस्तान से लौटी भारतीय जूडो टीम, मेडल न लाने का मलाल

Smart News Team, Last updated: 12/04/2021 08:00 AM IST
  • किर्गिस्तान के बिशकेक में आयोजित एशिया-ओशेनिया ओलिंपिक्स क्वॉलिफायर से 15 सदस्यों वाली जूडो टीम के दो खिलाड़ियों को कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाने पर बाहर होना पड़ा.
कोरोना संक्रमित होने से किर्गिस्तान से लौटी भारतीय जूडो टीम, मेडल न लाने का मलाल

मेरठ। भारत की 15 सदस्यों वाली जूडो टीम के दो खिलाड़ियों को कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाने पर किर्गिस्तान के बिशकेक में आयोजित एशिया-ओशेनिया ओलिंपिक्स क्वॉलिफायर से बाहर होना पड़ा. फिलहाल यह भारतीय जूडो टीम वापस देश लौट आई है. वहीं दूसरी तरफ टीम का हिस्सा रहीं मेरठ की रहने वाली गरिमा चौधरी को गेम्स में भाग नहीं लेने और बगैर मेडल के ही लौटकर आने का बहुत मलाल है,.

जानकारी के मुताबिक टूर्नामेंट शुरू होने से ठीक पहले हुई जांच में दो खिलाड़ी अजय यादव और रितु कोरोना वायरस संक्रमित पाए गए थे. किर्गिस्तान में पहुंचने के बाद दूसरे टेस्ट में अजय यादव 73 किग्रा और रितु 52 किग्रा को पॉजेटिव पाया गया था. दोनों में ही कोरोना के लक्षण नजर नहीं आ रहे थे. ऐसा पहली बार हुआ है कि जब इस संक्रमण की वजह से भारतीय जूडो टीम को ओलिंपिक्स क्वॉलिफायर अभियान से बाहर होना पड़ा. सभी 15 जूडो खिलाड़ी और चार कोच किर्गिस्तान पहुंचने के बाद पहले टेस्ट में नेगेटिव पाए गए थे.

UP के कृषि मंत्री हुए कोरोना संक्रमित, ड्राइवर और रसोईया भी पाए गए पॉजिटिव

किर्गिस्तान के बिशकेक में चल रहे एशिया-ओशेनिया ओलिंपिक्स क्वॉलिफायर के लिए मेरठ की रहने वाली जूडोका गरिमा चौधरी ने काफी तैयारियां की हुई थी. उनकी नजर गोल्ड मेडल पर थी. उनका यह दावा था कि वह वहां से गोल्ड मेडल के साथ ही लौटेगी. गरिमा चौधरी ने कहा कि वापस लौटकर आ रही हूं, लेकिन बगैर मेडल खाली हाथ आना अच्छा नहीं लग रहा. जिस तरह से टीम ने तैयारियां की थी, कई मेडलों के साथ वहां से वापस लौटते, लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण से दो सदस्यों के ग्रस्त होने के बाद टीम को किर्गिस्तान के बिशकेक में चल रहे एशिया-ओशेनिया ओलिंपिक्स क्वॉलिफायर से बाहर आना पड़ा.

UP सरकार ने कोरोना को लेकर नई गाइडलाइंस की जारी, शादी-पार्टी के लिए दिए ये आदेश

गरिमा ने आगे कहा कि पूरी टीम को किर्गिस्तान के बिशकेक में चल रहे एशिया-ओशेनिया ओलिंपिक्स क्वॉलिफायर में खेलने से मना कर दिया गया. इसके चलते पूरी टीम देश में बगैर मेडल ही लौट आई. आइसोलेशन में रहने के दौरान दिक्कतें तो रही, लेकिन दूतावास की ओर से सुविधाएं दिलाई गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें