यूपी चुनाव के लिए RLD संकल्प पत्र जारी करने से पहले 58 हजार ग्राम प्रधानों से राय लेंगे जयंत चौधरी

Ankul Kaushik, Last updated: Sat, 11th Sep 2021, 3:31 PM IST
  • यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के लिए जयंत चौधरी की राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती पर अपना घोषणा पत्र जारी करेगी. रालोद के चुनावी घोषणा पत्र के लिए जयंत चौधरी 58,189 ग्राम प्रधानों को चिट्ठी लिख कर उनकी राय लेंगे.
सरदार पटेल की जयंती पर रालोद जारी करेगी अपना घोषणा पत्र, फोटो क्रेडिट (जयंत चौधरी ट्विटर)

मेरठ. पश्चिमी यूपी में जाटों पर अपना वर्चस्व रखने वाली जयंत चौधरी की राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के लिए पूरी तरह से तैयार. यूपी चुनाव 2022 के लिए 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती पर रालोद अपना घोषणा पत्र जारी करेगी. जयंत चौधरी इस घोषणा पत्र की तैयारी के लिए पार्टी के नेताओं से बात कर रहें और इसके साथ वह 58,189 ग्राम प्रधानों को चिट्ठी लिख कर उनकी राय भी लेंगे. यूपी चुनाव के लिए जारी होने वाले इस घोषणा पत्र को रालोद ने 'लोक संकल्प 2022' का नाम दिया है. वहीं रालोद पार्टी 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के अवसर पर एक लिंक भी जारी करेगी. इस लिंक के जरिए जनता से भी घोषणा पत्र के लिए सुझाव लिए जाएंगे और आरएलडी घोषणापत्र के लिए बनी लोक संकल्प समिति ने भी लोक संकल्प संवाद से जनता की राय ली है.

रालोद की लोक संकल्प समिति ने मेरठ, आगरा, लखनऊ में लोक संकल्प संवाद किया था और यहां जनता से रालोद के घोषणा पत्र के लिए जनता की राय ली थी. इसके साथ ही रालोद को सोशल मीडिया से भी सुझाव मिले हैं और उन पर भी विचार किया जाएगा. इसके साथ ही रालोद ने 'लोक संकल्प 2022' के लिए छात्रों, युवाओं, महिलाओं, किसानों, व्यापारियों से भी वर्चुअल मीटिंग करके इसके लिए राय ली है.

RJD के जयंती समारोह पर लालू यादव पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को करेंगे संबोधित

रालोद ने यूपी चुनाव के लिए जारी होने वाले अपने घोषणा पत्र 'लोक संकल्प 2022' के लिए सबसे पहले दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोनकारी किसानों की राय ली थी. बात दें कि किसानों और रालोद पार्टी का पहले से ही लगाव रहा है और जयंत चौधरी के लिए भी जाट समाज में अलग लगाव है. अगर यूपी के पिछले विधानसभा चुनाव में रालोद के रिजल्ट की बात करें तो जयंत की पार्टी ने 131 सीटों पर चुनाव लड़ा था और महज एक सीट पर इन्हें जीत मिली थी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें