Meerut खेल विश्वविद्यालय का शिलान्यास, खिलाड़ियों के लिए खास इंतजाम

Smart News Team, Last updated: Fri, 31st Dec 2021, 10:48 AM IST
  • मेरठ के मेजर ध्‍यान चंद खेल विश्वविद्यालय के शिलान्यास कार्यक्रम में प्रदेश भर के हर जिले से 75 खिलाड़ियों को अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया गया है. शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल होने वाले खिलाडियों के लिए खास इंतजाम किए जा रहे हैं. खिलाडिय़ों को अच्छा अनुभव देने के लिए मंच के ठीक सामने थियेटर स्टाइल में एलिवेटेड सीट लगाई जा रही है.
Meerut : मेजर ध्‍यान चंद खेल विश्वविद्यालय का शिलान्यास, खिलाड़ियों के लिए खास इंतजाम 

मेरठ. मेरठ के मेजर ध्‍यान चंद खेल विश्वविद्यालय के शिलान्यास कार्यक्रम को भव्य बनाने व खिलाड़ियों को यादगार बनाने के लिए हर स्तर पर तैयारी की गई है. खिलाडिय़ों के लिए खास इंतजाम किए गए हैं वहीं,  शिलान्यास कार्यक्रम में खिलाडिय़ों को लाने के लिए 350 बसों की व्यवस्था की गई है. बसों को सजाकर कार्यक्रम स्थल तक लाने की योजना है. खिलाडिय़ों को मंच के सामने थियेटर स्टाइल कुर्सियों पर बिठाया जाएगा. साथ ही मोबाइल नेटवर्क के लिए अतिरिक्त टावर लगाए जाएंगे.

बता दें कि, शिलान्यास कार्यक्रम में प्रदेश के हर जिले से 75 खिलाड़ियों को आमंत्रित किया गया है जिसमें कुल 16,850 खिलाड़ी कार्यक्रम में शामिल होंगे. खिलाड़ियों के साथ कई अन्य लोग भी व्यवस्था बनाने, सुरक्षा व खानपान आदि के लिए मौजूद रहेंगे. शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल होने वाले खिलाडिय़ों को सर्दी से बचाने के लिए भी इंतजाम किए जा रहे हैं. खिलाड़ी अपने साथ कंबल व गर्म कपड़े तो लेकर आएंगे ही, अगर कहीं आपात स्थिति बनती है तो उससे निपटने के लिए भी इंतजाम किए गए हैं. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग को भी विशेष निर्देश दिए गए हैं.

मेरठ: 2 जनवरी को पीएम मोदी करेंगे मेजर ध्यानचंद खेल यूनिवर्सिटी का शिलान्यास

कार्यक्रम प्रसारण व खिलाडिय़ों को बेहतर नेटवर्क उपलब्ध कराने के लिए निजी कंपनियों के अस्थायी टावर भी कार्यक्रम स्थल पर लगाए जाएंगे. कई बार अधिक भीड़ होने के कारण नेटवर्क में बाधा होती है.

बताते चले कि, कार्यक्रम में प्रधानमंत्री से संवाद करने वाले 32 खिलाडिय़ों की सूची अंतिम सहमति के लिए मुख्यमंत्री के पास भेजी गई है. इसके अलावा खेल विश्वविद्यालय का तैयार किया गया थ्रीडी नक्शा भी मुख्यमंत्री की अनुमति के लिए भेजा गया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें