शोपियां मुठभेड़ में जीते लेकिन अस्पताल में हारे जिंदगी की जंग, मेरठ के मेजर मयंक विश्नोई शहीद

Shubham Bajpai, Last updated: Sat, 11th Sep 2021, 1:01 PM IST
  • मेरठ के मेजर मयंक विश्नोई आज शोपियां में शहीद हो गए. मेजर विश्नोई 27 अगस्त को शोपियां में हुई एक आंतकी मुठभेड़ में घायल हो गए थे. जिसके बाद उधमपुर स्थित सेना के मिलिट्री अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था. आज सुबह इलाज के दौरान वो शहीद हो गए. इसकी जानकारी उनके परिजनों ने दी.
शोपियां मुठभेड़ में घायल मेरठ के मेजर मयंक विश्नोई हुए शहीद

मेरठ. मेरठ के कंकरखेड़ा के शिवलोकपुरी निवारी मेजर मयंक विश्नोई आंतकी मुठभेड़ में शहीद हो गए. मयंक के शहीद होने की जानकारी उनके परिजनों ने दी. 27 अगस्त को शोपियां में हुए एक आंतकी मुठभेड़ में मेजर घायल हो गए थे, जिन्हें उधमपुर स्थित मिलिट्री अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां उनका इलाज चल रहा था, इलाज के दौरान आज सुबह उन्होंने अपनी अंतिम सांस ली.  कल सुबह मयंक का पार्थिव शरीर मेरठ पहुंचेगा.

रविवार को राजकीय सम्मान से होगा अंतिम संस्कार

परिजनों के अनुसार, राजपूताना राइफल्स में तैनात मेजर मयंक का पार्थिव शरीर रविवार को मेरठ पहुंचेगा. जहां राजकीय सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार कराया जाएगा. मयंक के जाने के बाद अब परिवार में उनकी पत्नी स्वाति विश्नोई, पिता वीरेंद्र विश्नोई, माता मधु विश्नोई और दो बहनें है.

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर इन यात्रियों को नहीं देना होगा टोल टैक्स! जानें 10 यात्राओं के लिए छूट का खास ऑफर

पिता को प्रेरणा मान सेना में हुआ था भर्ती

मेजर मयंक विश्नोई के पिता वीरेंद्र विश्नोई ने भी सेना में बतौर सूबेदार पद में अपनी सेवाएं दी है और इसी पद से रिटायर हुए हैं. परिजनों ने बताया कि मयंक पिता को ही अपनी प्रेरणा मानता था और उन्हीं की तरह सेना में भर्ती होकर देश की सेवा करने का जज्बा बचपन से उसे था. जिसके चलते 2010 में वो आईएमए से पास आउट हुआ और सेना में बतौर मेजर नियुक्त हुआ.

घर में पड़ा मिला BJP नेता का शव, स्कॉर्पियों कार भी गायब, हत्या या लूट

बेटे की शहादत की खबर सुन परिवार के कई सदस्य उधमपुर रवाना

मेजर मयंक विश्नोई की शहादत की खबर आज सुबह परिजनों को मिलने के बाद ही परिवार के कई सदस्य उधमपुर के लिए रवाना हो गए हैं. वहीं, मंयक के आवास पर कई लोग पहुंच रहे हैं. वहीं, पूरे परिवार को बेटे की शहादत पर गर्व है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें