महफूजुर्रहमान चतुर्वेदी का निधन, 4 वेदों के ज्ञाता को मिला था हिंदू टाइटल

Smart News Team, Last updated: Thu, 3rd Jun 2021, 1:51 PM IST
  • मेरठ में बुधवार को चारों वेदों के ज्ञाता मौलाना महफूजुर्रहमान शाहीन जमाली चतुर्वेदी का निधन हो गया. उन्हें चतुर्वेदी उपाधि चारों वेदों का ज्ञान होने के बाद मिली थी. वहीं उनकी मौत लम्बे समय से बीमार चलने के कारण हुई है.
चारों वेदों के ज्ञाता मौलाना महफूजुर्रहमान का निधन, आनंद अस्पताल में थे भर्ती

मेरठ. मेरठ के सदर बाजार में स्थित मदरसा इमदादुल का संचालन करने वाले मौलाना महफूजुर्रहमान शाहीन जमाली चतुर्वेदी का बुधवार को निधन हो गया. वह काफी दिनों से बीमार चल रहे थे. जिनका इलार आनंद अस्पताल में किया जा रहा था. बताया जाता है कि उन्हें उर्दू समेत अरबी, संस्कृति भाषा भी बखूबी आती थी. साथ ही उन्हें चारों वेद का ज्ञान था. जिसके कारण उनका नाम चतुर्वेदी पड़ा था. 

उनके बारे में बताया जाता हैं कि वह उन्होंने इस्लाम को लेकर कई किताबें लिखी हैं. साथ ही उनकी गिनती कई बड़े आलिमों होती थी. साथ ही वह सदर बाजार में ही हिन्दू मुस्लिम एकता के मिसाल थे. जहां पर यह मुस्लिम दर्शन के साथ ही हिन्दू दर्शन का भी जानकारी दिया करते थे. 

CM योगी का फैसला- यूपी के सभी अस्पतालों में फिर शुरू होगी ओपीडी

इतना ही नहीं यह सर्वधर्म संस्कृति सम्मेलनों में भी शिरकत किया करते थे. साथ ही वह देश प्रेम, साम्प्रदायिक सौहार्द और आपसी भाईचारा कायम करने के लिए सभी धार्मिक मंचो में शामिल होते थे. वहां से वह हिन्दू मुस्लिम धर्म के बीच की गलतफहमियां दूर करने में लगे रहते थे. वहीं यह एक समाचार पत्र के चीफ एडिटर भी रह चुके हैं. मौलाना धार्मिक सामाजिक आर्थिक विषयों पर कई किताबें भी लिख चुके हैं. 

बात करे मौलाना की शिक्षा दीक्षा की तो इन्होंने अलीगढ़ विश्वविद्यालय से संस्कृति से एमए किया था. इस्लामिक शिक्षा की उच्च डिग्री आलिम हासिल को इन्होंने मदरसा दारुल देवबंद से ली थी. चारों वेद के ज्ञाता हो जाने के बाद इन्हें चतुर्वेदी की उपाधि मिली थी. इनके गुरु प्रो पंडित बशीरुद्दीन थे. जिनसे इन्होंने संस्कृति सीखी थी.

योगी सरकार का फैसला- फ्री दी जाएगी गंगा एक्सप्रेस वे के लिए ग्राम सभा की जमीन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें