कांग्रेस, RLD के बाद नकली NCERT किताब केस में AAP का प्रदर्शन, CBI जांच की मांग

Smart News Team, Last updated: 27/08/2020 03:35 PM IST
  • मेरठ में NCERT के नकली किताबों के पकड़े जाने और उसमें बीजेपी नेता का नाम सामने आने के बाद आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग तेज हो गई है. इसी क्रम में आप कार्यकर्ताओं ने भी जिलाध्यक्ष ओपी संत के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया.
मेरठ नकली NCERT किताब मामले में आम आदमी ने प्रदर्शन किया.

मेरठ. आम आदमी पार्टी (आप) मेरठ के जिलाध्यक्ष ओपी संत के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने NCERT की नकली किताबों के मामले में कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया और राज्यपाल के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपा. गुरुवार को आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर NCERT की नकली किताबों की छपाई और उनकी कालाबाजारी के खिलाफ कंपनियों के कर्मचारियों, मालिकों, उसमें संलिप्त भाजपा के नेताओं और कैंट विधानसभा से विधायक सत्य प्रकाश अग्रवाल की भूमिका की जांच की मांग को लेकर कलेक्ट्रेट पर धरना प्रदर्शन किया. 

मेरठ NCERT किताब केस में BJP पर कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन, बढ़ाई गई सुरक्षा

विरोध प्रदर्शन के साथ ही राज्यपाल के नाम संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से भेजा. प्रदर्शन के दौरान मामले की सीबीआई जांच कराने के साथ ही सभी आरोपियों की गिरफ्तारी कराने की मांग की गई. इसी के साथ संबंधित थाने की भूमिका की भी जांच कराने और पूरे मामले में सामने आए लोगों की संपत्ति की जांच कराने की मांग रखी गई. इस मौके पर आम आदमी पार्टी के गोहर रजा सिद्दीकी, सरदार गुरमिंदर सिंह, फारुख किदवई समेत जिले के सभी पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे.

मेरठ NCERT किताब केस: BJP नेता समेत 8 पर FIR, 4 अरेस्ट, 70 करोड़ की किताब जब्त

बता दें कि मेरठ में पिछले दिनों NCERT की नकली किताबों की छपीई का मामला सामने आया था. पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर जांच भी शुरू कर दी है. इस मामले की शुरुआती जांच में अभी तक बीजेपी नेता संजीव गुप्ता का नाम सामने आया है. इसके बाद से ही विपक्षी पार्टियां आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रही हैं. साथ ही मामले की जांच को सीबीआई को सौपें जाने की भी मांग हो रही है. इसे लेकर पिछले दिनों कांग्रेस और रालोद ने भी बीजेपी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था. अब आप भी इस मामले में सड़क पर उतर आई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें