मेरठ: गन्ना किसानों को केंद्र से राहत, दाम में 10 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी

Smart News Team, Last updated: 19/08/2020 04:06 PM IST
  • केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने साल 2020-21 के लिए गन्ना किसानों का लाभकारी मूल्य बढ़ाकर 285 रुपये प्रति क्विटंल तय किया है. ये रेट 10 प्रतिशत रिकवरी के आधार पर है.
मेरठ: भकियू के विरोध के बीच नरेंद्र मोदी सरकार से गन्ना किसानों को बड़ी राहत

मेरठ. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों के चीनी मिलों से भुगतान को लेकर चल रहे विरोध के बीच केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने साल 2020-21 के लिए चीनी मिलों द्वारा भुगतान किए जाने वाला गन्ना किसानों का लाभकारी मूल्य बढ़ाकर 285 रुपये प्रति क्विटंल तय किया है. ये रेट 10 प्रतिशत रिकवरी के आधार पर है. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि अगर रिकवरी रेट 9.5 फीसदी या उससे भी कम रहता है तो भी गन्ना किसानों को संरक्षण देते हुए 270 रुपये का दाम दिया जाएगा.

गौरतलब है कि बुधवार को सूचना प्रसारण मंत्रालय के मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गन्ना किसानों के हित को देखते हुए गन्ने के उचित मूल्य तय किए जाने की घोषणा की. इस फैसले के बाद किसानों को उनकी गन्ने की फसल पर 285 रुपये प्रति क्विंटल का भाव मिलेगा.

मेरठ: गन्ना किसानों का धरना खत्म, ब्याज के साथ बकाया भुगतान की शर्त पर माना BKU

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक में किसानों के लिए बड़ा फैसला लिया गया. एक करोड़ गन्ना किसानों को इस फैसले से राहत मिलेगा. सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए 10 रुपये प्रति क्विंटल की FRP(Fair and Remunerative) बढ़ाई है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें