मेरठ: तेल माफिया और टैंकर मालिक के बीच सरेआम चलीं गोलियां, देर से पहुंची पुलिस

Smart News Team, Last updated: 13/10/2020 08:07 PM IST
  • मेरठ के पूठा गांव में तेल माफिया और टैंकर मालिक के बीच वर्चस्व की लड़ाई इस हद तक बढ़ कि दोनों के बीच सरेआम फायरिंग हो गई. इस मामले में तेल माफिया टैंकर मालिक के दो लाख रुपये लेकर मौके से फरार हो गया.
तेल माफिया और टैंकर मालिकों के बीच सरेआम फायरिंग,लिस समय पर घटनास्थल पर नहीं पहुंची

 मेरठ: मेरठ में हाल ही में तेल माफिया और टैंकर मालिकों के बीच सरेआम फायरिंग हो गई. टीपीनगर थाना क्षेत्र के वेदव्यासपुरी का यह मामला है. दरअसल, तेल माफिया पर आरोप लगा था कि वह टैंकर मालिक से 2 लाख रूपये लूटकर फरार गए थे. ट्रांसपोर्टनगर थाना क्षेत्र के पूठा गांव में वर्चस्व की लड़ाई को लेकर तेल माफिया और टैंकर मालिकों के बीच जोरदार लड़ाई चल रही है. इस लड़ाई में तेल माफिया टैंकर मालिकों पर भारी पड़े. तेल माफिया ने कई राउंड फायरिंग की, इसी के साथ टैंकरों में भी तोड़फोड़ कर दी.

मेरठ: इंडियाना बार में लगी भीषण आग दो घंटे बाद बुझी, लाखों का सामान जलकर खाक

दरअसल, इंडियन ऑयल डिपो के टैंकर चालक, परिचालक और मालिक अपनी मांगों को पूरा करवाने के लिए हड़ताल पर हैं. वहीं, हड़ताल रुकवाने के लिए कुछ तेल माफिया, टैंकर चालक, परिचालक और मालिकों पर हड़ताल खत्म करने का दबाव बना रहे हैं, जिसके चलते आज सोमवार दोपहर पूठा गांव के तेल माफिया अनिल चौधरी ने भोला रोड निवासी टैंकर मालिक अभिषेक यादव उर्फ कलुआ के ऑफिस वेदव्यासपुरी जाकर हड़ताल खत्म करने का दबाव बनाया. तो अभिषेक यादव ने हड़ताल खत्म करने से इनकार कर दिया.

इसके बाद तेल माफिया अनिल चौधरी वहां से चला गया, लेकिन कुछ ही देर बाद अनिल चौधरी का बेटा सुमित चौधरी, अपने दो दर्जन से अधिक साथियों के साथ अभिषेक यादव के ऑफिस पहुंच गया. और अभिषेक के ऑफिस पर हमला कर दिया. लाठी और डंडों से मारपीट करते हुए उन्होंने कई राउंड फाइरिंग कर टैंकरों में तोड़फोड़ की. इस बीच अभिषेक की ओर से भी लोग आ गए उन्होंने भी फायरिंग शुरू कर दी. लेकिन तेल माफिया टैंकर मालिक अभिषेक पर भारी पड़ गया. पीड़ित अभिषेक यादव ने पुलिस को बताया कि माफिया अनिल चौधरी का बेटा सुमित और उसके साथी मारपीट करते हुए ऑफिस में रखे दो लाख रुपये लूट ले गए. हालांकि, कुछ ही दूरी पर पुलिस चौकी होने के बाद भी पुलिस समय पर घटनास्थल पर नहीं पहुंची. इसको लेकर पुलिस पर भी कई तरह के आरोप लग रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें