मेरठ NCERT किताब केस: प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस नेताओं की पुलिस से झड़प

Smart News Team, Last updated: 25/08/2020 03:38 PM IST
  • मेरठ के NCERT नकली किताबों के मामले में मंगलवार को CBI जांच और आरोपी बीजेपी नेताओं की गिरफ्तारी को लेकर कांग्रेस ने प्रदर्शन शुरू किया जिसे पुलिस के रोके जाने पर प्रदर्शनकारियों और पुलिस फोर्स के बीच जमकर धक्का-मुक्की और झड़प हुई.
मेरठ NCERT नकली किताबों के मामले में बीजेपी नेताओंं की गिरफ्तारी को लेकर प्रदर्शन करते कांग्रसी और उनको रोकती पुलिस

मेरठ. NCERT की नकली किताबों के मामले में CBI जांच और भाजपा नेताओं समेंत आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर कांग्रेसी और पुलिस के बीच झड़प हो गई. कांग्रेस कार्यकर्ता मंगलवार सुबह ही बुढ़ना गेट कांग्रेस कार्यालय से मार्च करते हुए बीजेपी कार्यालय के लिए निकल पड़े. इस बीच खबर पाकर पहुंची पुलिस ने उन्हें बीच रास्ते में ही रोक लिया. लेकिन प्रदर्शनकारी किसी किमत पर रुकने को तैयार नहीं हुए. इसे लेकर बीच रास्ते में ही पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच जमकर धक्मा-मुक्की शुरू हो गई. यहां तक की बात बढ़कर नोकझोंक तक पहुंच गई.

जाली किताबों समेत अन्य मांगों को लेकर रालोद ने किया मेरठ कमिश्नरी पर प्रदर्शन

बता दें कि पहले से तय कार्यक्रम के मुताबिक कांग्रेस जिला अध्यक्ष अवनीश काजला, वरिष्ठ कांग्रेस नेता पंडित नवनीत नागर, कांग्रेस सेवादल जिला अध्यक्ष रोहित गुर्जर और एनएसयूआई के पश्चिम यूपी अध्यक्ष रोहित राणा के नेतृत्व में कांग्रेसी NCERT नकली किताब मामले में प्रदर्शन करने निकले. कांग्रेसियों की योजना बागपत रोड स्थित बीजेपी कार्यालय का घेराव करना था. 

मेरठ NCERT नकली किताब केस: कांग्रेस ने की CBI जांच की मांग, कमिश्नरी पर प्रदर्शन

लेकिन इससे पहले ही पुलिस फोर्स ने कांग्रेसियों को कार्यालय के बाहर गली में ही रोक लिया और उन्हें आगे नहीं बढ़ने दिया. और गली में लगे गेट खोल कर वहां पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई. इस दौरान कांग्रेसियों और पुलिस के बीच नोकझोंक और धक्का-मुक्की शुरू हो गई. प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के साथ ही बीजेपी नेताओं के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. बाद में पुलिस के समझाने पर कांग्रेसियों ने तीन दिन में कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन के लिए सड़कों पर उतरने का ऐलान किया और कहा कि पूरे मामले की सीबीआई जांच के साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी कराई जाए.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें