मेरठ के हथियार तस्कर को दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने किया गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 22/08/2020 12:14 PM IST
  • दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दिल्ली में शुक्रवार को एक हथियार तस्कर को गिरफ्तार किया है. आरोपी हथियारों को रिफाइंड ऑयल के डब्बे में छुपा कर लाया था. पुलिस ने उसे 20 पिस्टल और 50 कारतूस के साथ गिरफ्तार किया है. 
दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने अब्दुल सलाम नाम के हथियार तस्कर को गिरफ़्तार किया है.

मेरठ. मेरठ के एक हथियार तस्कर को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 20 पिस्टल और 50 कारतूस के साथ गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार आरोपी कई मामलों में हत्या करने और हत्या के प्रयास का आरोपी रहा है.जानकारी के अनुसार दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को हथियार सप्लायर अब्दुल कलाम के बारे में सूचना मिली. पुलिस को यह पता चला कि हथियारों की खेप लेकर अब्दुल दिल्ली पहुंचने वाला है. इसके बाद स्पेशल सेल ने अब्दुल को पकड़ने की योजना बनाई और दिल्ली में उसे धर दबोचा. आरोपी के पास से 20 पिस्टल, 40 मैगजीन और 50 कारतूस बरामद किए गए हैं.

पुलिस द्वारा आरोपी से पूछताछ में उसने बताया कि वह मध्यप्रदेश में हथियार लाकर दिल्ली और एनसीआर में सप्लाई करता था. अब तक वह 2 हज़ार से ज़्यादा हथियारों की खेप सप्लाई कर चुका है. सूत्रों के अनुसार आरोपी ने दिल्ली में हुई सीएए हिंसा में भी हथियारों की सप्लाई की थी. अब्दुल पिछले 10 वर्षों से इस धंधे में है.

आरोपी हथियारों को रिफाइंड ऑयल के डब्बे में छुपा कर लाया था. पुलिस ने उसे 20 पिस्टल और 50 कारतूस के साथ गिरफ्तार किया है.

 

मेरठ: NCERT की 35 करोड़ की डुप्लीकेट किताबें जब्त, प्रेस में लगाई आग, 12 अरेस्ट

आरोपी अब्दुल हर बार नए तरीके से माल लेकर आता. इस बार वह हथियारों को रिफाइंड ऑयल के डिब्बे में छुपा कर लाया. जानकारी में यह भी सामने आया कि 1 साल पहले उसने अपने साथी के साथ इस काम को शुरू किया था. इसके बाद से लगातार वह हथियारों की तस्करी कर रहा है.

स्पेशल सेल ने यह भी बताया कि आरोपी के खिलाफ हत्या, हत्या की कोशिश जैसे मामलें दर्ज हैं. मेरठ में हुई एक हत्या के मामले में उसे आजीवन कारावास की सजा भी हुई थी. इस मामले में वह वर्ष 2016 से 2018 तक जेल में रहा था. बाद में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उसे बरी कर दिया और वह जेल से बाहर आ गया. इससे पहले भी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 2013 में अब्दुल को 22 पिस्टल के साथ पकड़ा था.

मेरठ से NCERT की डुप्लीकेट किताबों की देशभर में हो रही थी सप्लाई

अब्दुल ने पुलिस को यह भी बताया कि वह पिछले 6 वर्षों में दो हज़ार से ज़्यादा हथियारों की सप्लाई कर चुका है. वह 10 से 12 हज़ार में एक पिस्टल खरीदता है और बाद में इन पिस्टलों की बिक्री 25 से 30 हज़ार में हो जाती है. हथियार लाने के लिए बैटरी आदि का इस्तेमाल किया जाता है.

लॉकडाउन में बेरोजगारों से नौकरी के नाम पर ठगी, फर्जी कंपनी का मैनेजर अरेस्ट

पुलिस पूछताछ में यह भी सामने आया है कि सीएए हिंसा से ठीक पहले भी आरोपी ने कुछ हथियार सप्लाई किए थे. माना जा रहा है कि इन हथियारों का इस्तेमाल दिल्ली हिंसा में भी हुआ था. ऐसे में आरोपी से आगे और पूछताछ की जा रही है. इस टीम में डीसीपी प्रमोद कुशवाहा, एसीपी अतर सिंह, इंस्पेक्टर शिव कुमार, एसआई अनिल ढाका, राजेश शर्मा, आदेश यादव आदि शामिल रहे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें