बिजली विभाग के इंजीनियरों ने छोड़ा ऑफिशियल व्हाट्सएप ग्रुप, आंदोलन तेज

Deepakshi Sharma, Last updated: Wed, 22nd Sep 2021, 5:10 PM IST
  • नोएडा-ग्रेटर नोएडा में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के तबादले और उत्पीड़न के विरोध में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर्स का आंदोलन लगातार 5वें दिन जारी है. प्रबंधन और अभियंता संघ के बीच शनिवार की वार्ता विफल हो गई.
बिजली विभाग के इंजीनियरों ने छोड़ा ऑफिशियल व्हाट्सएप ग्रुप

मेरठ. नोएडा-ग्रेटर नोएडा में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरों के तबादले और उत्पीड़न के खिलाफ बिजली अभियंताओं का आंदोलन और तेज हो गया है. मेरठ जोन में कई इंजीनियरों ने विभागीय व्हाट्सएप्प ग्रुप को छोड़ दिया है जिससे लगता है कि प्रबंधन या सरकार से उनकी बात आगे नहीं बढ़ रही है और अब वो दबाव बनाने के मूड में हैं. पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड और पावर कॉरपोरेशन प्रबंधन के खिलाफ इलेक्ट्रिकल इंजीनियर का आंदोलन रविवार को पांचवे दिन भी जारी रहा. शनिवार को प्रबंधन और अभियंता संघ के बीच बातचीत विफल हो गई थी. सोमवार से आंदोलन तेज करने का दावा किया गया है.

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरों ने आंदोलन तेज करने का ऐलान करते हुए कहा है कि 20 से 25 सितंबर तक सुबह 10 से लेकर शाम 5 बजे तक जोनल मुख्यालय पर प्रदर्शन और कार्य बहिष्कार किया जाएगा. 27 सितंबर को पीवीवीएनएल के सभी इंजीनियर दोबारा ऊर्जा भवन में पूरे दिन विरोध प्रदर्शन और काम बहिष्कार करेंगे. उसी दिन आगे के आंदोलन की रूपरेखा तय होगा. इंजीनियर संघ ने दावा किया है कि उसे इस आंदोलन में विद्युत मजदूर पंचायत, हाइड्रो इम्प्लाई यूनियन और राज्य विद्युत प्राविधिक कर्मचारी संगठन का पूरा साथ मिलेगा.

यूपी चुनाव: पश्चिमी यूपी से प्रियंका गांधी फूंकेंगी चुनावी बिगुल, मेरठ में होगी कांग्रेस की बड़ी जनसभा

उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत परिषद अभियंता संघ के उपाध्यक्ष कपिल तेवतिया ने बताया कि प्रबंधन से पहले दौर की बातचीत विफल रही है. इंजीनियरों ने अगले सात दिन तक विरोध प्रदर्शन और कार्य बहिष्कार का फैसला किया है. मेरठ प्रदर्शन में सीपी सिंह, एके आत्रेय, विराग बंसल, अजय ओझा, जेके गुप्ता, हरीश चौधरी, प्रगति, शिखा यादव, सोनू रस्तोगी, शैली वत्स, दीपांशु सहाय, अवधेश, सौरभ राय, अमित गौतम, रवि, अरशद अली शामिल रहे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें