लॉकडाउन में बेरोजगारों से नौकरी के नाम पर ठगी, फर्जी कंपनी का मैनेजर अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 21/08/2020 08:20 PM IST
  • मेरठ में लॉकडाउन में बेरोजगार हुए युवकों से कंपनी रोजगार के नाम पर धोखाधड़ी कर रही थी. फर्जी कंपनी के मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया गया है. वहीं संचालक फरार है.
मेरठ में रोजगार के नाम पर युवकों को ठगने वाली फर्जी कंपनी का पर्दाफाश.

मेरठ. शुक्रवार को पुलिस ने कोरोना काल में बेरोजगार हुए युवकों को अखबार में विज्ञापन देकर फर्जी नौकरी लगवाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है. कई शहरों के युवकों से ठगी करने का मामला सामने आया है.

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण लाखों लोगों को अपनी नौकरियों से हाथ धोना पड़ा है. जिसके साथ ही युवकों द्वारा अपराध के मामलों में भी इजाफा हुआ है. शहर के कृष्णा प्लाजा में जेटीएम सर्विस के नाम की फर्जी कंपनी बनाकर आरोपी बेरोजगार युवकों से नौकरी के दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी करते थे.  

सपा छात्र सभा ने किया क्लेक्ट्रेट पर प्रदर्शन, मांगों को लेकर आंदोलन की धमकी

कंपनी के मैनेजर आयुष उर्फ आमिर ने बताया कि अब तक उन्होंने मेरठ , सहारनपुर, बिजनौर, बागपत शामली, बुलंदशहर, अलीगढ़ व अन्य जनपदों के युवकों से अब तक ठगी कर चुके हैं. 

मेरठ: कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने खाद की कमी को लेकर किया बवाल, तोड़े कोरोना नियम

सर्विलांस सेल टीम और मेडिकल थाना पुलिस ने की संयुक्त कार्रवाई करके फर्जीवाड़ा कर रहे इस गिरोह का पर्दाफाश किया है. पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक इस फर्जी कंपनी का मैनेजर आयुष उर्फ आमिर गिरफ्तार कर लिया है. जबकि कंपनी की संचालक सीमा उर्फ नाजिया और उसका एक ओर साथी फरार हैं. 

अन्य खबरें