मेरठ: स्पोर्ट्स फैक्ट्री में लगी आग, फायर ब्रिगेड ने 16 घंटे में किया आग को काबू

Smart News Team, Last updated: 16/08/2020 04:06 PM IST
  • परतापुर थाना क्षेत्र स्थित वीनस स्पोर्ट्स एंड गुड्स फैक्ट्री में शनिवार की रात लगी भीषण आग. 16 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद फायर ब्रिगेड ने आग पर पाया काबू. धुएं के गुबार से पट गया आसपास का इलाका, बगल में थी पेंट और केमिकल की फैक्ट्री.
मेरठ फैक्ट्री में लगी आग

मेरठ। मेरठ जिले के परतापुर थाना क्षेत्र स्थित वीनस स्पोर्ट्स एंड गुड्स फैक्ट्री में शनिवार रात भीषण आग लग गई. भीषण आग लगने से इलाके में धुएं का गुबार उठ गया. जानकारी होते ही पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम लगातार आग पर काबू पाने की कोशिश करती रही. लगभग 16 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका.

एक अनुमान के मुताबिक फैक्ट्री में करोड़ों रुपये के सामान जलने की आशंका जताई जा रही है. हालांकि अभी सही तरीके से इसका आंकलन नहीं किया जा सका है. फैक्ट्री की बिल्डिंग भी गिरने के कगार पर पहुंच गई है. 20 से ज्यादा फायर ब्रिगेड की टीम ने 16 घंटे में आग पर पूरी तरह काबू पा लिया.

बता दें कि उद्योगपुरम स्थित वीनस स्पोटर्स फैक्ट्री में टेबल टेनिस, एथलेक्टिस, जिम्नास्टिक, फिटनेस, हॉकी के उपकरण बनते हैं जो विदेशों में सप्लाई होते हैं.

शनिवार रात फैक्ट्री के गोदाम में आग लगनी शुरू हो गई. कुछ ही देर में आग ने विकराल रूप धारण कर लिया. आग की लपटें जब फैक्ट्री से बाहर निकलीं तब लोगों को इसकी जानकारी हुई.

मेरठ, हापुड़ और मोदीनगर से फायर टीमें पहुंची और आग पर काबू करना शुरू कर दिया. फैक्ट्री की तीन मंजिला बिल्डिंग पूरी तरह आग की चपेट में थी. देर रात करीब तीन बजे आग बुझा ली गई लेकिन रविवार सुबह फिर आग की लपटें उठनी शुरू हो गईं. दोपहर करीब 12 बजे आग पर काबू पाया जा सका. फायर ब्रिगेड टीम ने समय रहते आग पर काबू पा लिया. आग की उठ रही लपटों से आसपास की फैक्ट्रियां भी चपेट में आ सकती थी लेकिन फायर ब्रिगेड टीम की लगातार कोशिश से आग पर काबू पाया जा सका.

इस फैक्ट्री के बगल में पेंट और केमिकल की फैक्ट्री है. वहीं दूसरी तरफ की फैक्ट्री में तीन दिन पहले ही 40 सिलेंडर आए थे. आसपास की फैक्ट्रियों के पानी उपकरण चालू कर चारो तरफ से बौछार की गई, ताकि आग का फैलाव न होने पाए. एफएसओ परतापुर शांतनु कुमार यादव ने बताया कि प्रथम दृष्टया शॉर्ट सर्किट वजह मानी जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें