मेरठ ज्वैलर व्यापारी हत्या: सेंट्रल मार्केट बंद कराने को लेकर हंगामा और मारपीट

Smart News Team, Last updated: 12/09/2020 11:26 AM IST
  • मेरठ के ज्वेैलर व्यापारी अमन जैन की हत्या मामले में सेंट्रल मार्केट बंद कराने को लेकर व्यापारियों के दो गुट के बीच में हंगामा और मारपीट हो गया. मौके पर पुलिस पहुंची है.  
सेंट्रल मार्केट बंद कराने को लेकर हुआ हंगामा और मारपीट.

मेरठ. मेरठ के ज्वेैलर व्यापारी अमन जैन की हत्या मामले में दो गुट के व्यापारियों के बीच में मारपीट हो गई.  मेरठ के सेंट्रल मार्केट में व्यापारियों के बीच दुकानें बंद कराने को लेकर मारपीट हुआ. सेंट्रल मार्केट को बंद कराए जाने को लेकर किशोर वाधवा समर्थक व्यापारी शामिल नहीं हुए. किशोर वाधवा समर्थक व्यापारी ने रविवार को बाजार बंद का ऐलान किया था. 

मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है. जानकारी के अनुसार एक पक्ष के व्यापारियों ने दुकानें और बाजार बंद कराई तो दूसरे पक्ष के व्यापारी भड़क गए. इसी बात को लेकर व्यापारियों में आपसी विवाद हो गया. अभी मामला तनावपूर्ण बना हुआ है.

ज्वेैलर व्यापारी अमन जैन के हत्यारों की गिरफ्तारी और न्याय दिलाने के लिए व्यापारियों ने बंद का ऐलान किया था. विरोध प्रदर्शन करने को लेकर व्यापारी दो गुट में बट गए हैं. बताया जा रहा है कि शहर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए मौैके पर पुलिस की कई भी गाड़ियां भी पहुंची हैं. 

मेरठ ज्वैलर व्यापारी हत्या: शनिवार को जागृति विहार -शास्त्रीनगर के बाजार बंद 

शास्त्रीनगर-जाग्रति विहार संयुक्त व्यापार संघ से जुड़े लोगों ने सुबह से ही बाजारों को बंद कराने में जुटे थे. इसी दौरान किशोर वाधवा और उनके कुछ समर्थक व्यापारी में विवाद हो गया. विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों पक्षों  के बीच मारपीट हो गई.  

बता दें कि मेरठ में मंगलवार को बेखौफ बदमाश एक ज्वैलर्स की दुकान में घुस गए और लूटपाट की. लूटपाट का विरोध करने पर बदमाश ने ज्वेलर्स की गोली मार कर हत्या कर दी. इसके बाद बदमाश करीब 10 लाख रुपए नगद और 5 किलो चांदी लूट ले गए. 

मेरठ में ज्वैलर व्यापारी की हत्या मामले में इस कारण थानेदार को किया गया सस्पेंड

शासन से अमन जैन के हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को  लेकर शास्त्रीनगर-जाग्रति विहार संयुक्त व्यापार संघ के पदाधिकारियों ने शनिवार को बाजार बंद करने का ऐलान किया था. हालांकि, उस दौरान व्यापारियों का एक गुट ने इस फेैसले का विरोध किया था. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें