गंगानगर की सड़क पर मिली तेंदुए और हिरण की केमिकल लगी खाल, वन विभाग हुआ अर्ल्ट

Deepakshi Sharma, Last updated: Sat, 9th Oct 2021, 12:59 PM IST
  • मेरठ के गंगानगर डिवाइडर रोड पर तेंदुए और हिरण की केमिकल लगी खाल मिलने से सनसनी सी मची गई. जैसे ही इसकी सूचना वन विभाग को मिली तो उन्होंने इस मामले में तुरंत एक्शन लिया. फिलहाल आरोपी की तलाश अभी जारी है.
मेरठ की गंगानगर सड़क पर मिली हिरण और तेंदुए की खाल को बरामद करती पुलिस

मेरठ. 8 अक्टूबर शुक्रवार के दिन दोपहर में गंगानगर और अब्दुल्लापुर इलाकों में उस वक्त सनसनी फैल गई. जब गंगानगर डिवाइडर रोड पर एक तेंदुए और एक हिरण की खाल पड़ी होने की जानकारी सामने आई. इस बारे में जैसे ही सूचना डीएफओ राजेश कुमार को मिली तो उन्होंने इस मामले को गंभीरता से लिया और तुरंत एसडीओ के साथ टीम संग मौके के लिए रवाना हो गए. सामने आई सूचना के मुताबिक जगह की तलाशी करने पर सड़क किनारे वन्य जीवों की खालें पड़ी मिली. फिलहाल टीम ने केमिकल लगी खालों को अपने कब्जे में ले लिया और जांच शुरू कर दी है.

डीएफओ राजेश कुमार ने बताया कि सूचना के आधार पर एसडीओ सुभाष चौधरी, वन दारोगा मोहन सिंह, वन रक्षक रीना, कमलेश कुमार, गौरव की एक टीम बनाकर उन्हें मौके पर भेजा गया. इसके बाद टीम ने किला परीक्षितगढ़ रोड पर स्थित बीएनजी स्कूल के सामने से जा रही गंगानगर डिवाइडर रोड पर जांच करना शुरू की. कुछ दूरी पर ही डिवाइडर रोड पर सड़क के किनारे ही वन्य जीवों की खालें पड़ हुई मिल गई. इस मामले को लेकर टीम ने आसपास के इलाके में छानबीन भी की. मौके से दोनों वन्य जीवों की खाल को उठा लिया गया और डीएफओ दफ्तर ले आए.

पेट्रोल डीजल 9 अक्टूबर का रेट: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, आगरा, मेरठ, गोरखपुर, प्रयागराज में फिर बढ़े तेल के दाम

इस पूरे मामले को लेकर वन अधिकारियों का ये कहना है कि जिस तरह से खालों पर केमिकल लगा हुआ है. इससे ये साफ होता है कि किसी व्यक्ति ने इस खालों की ट्रॉफी आदि बनवाकर कोठी में सजावट के तौर पर लगाया होगा. अब खालें जैसे ही खराब होने लगी होगी तो इन्हें सड़क पर फेंक दिया गया. हालांकि इस वक्त वन विभाग की टीम फिलहाल जांच-पड़ताल में जुटी है. साथ ही सीसीटीवी कैमरों के जरिए फुटेज के आधार पर सड़क किनारे वन्य जीवों की केमिकल लगी खालों को फेंकने वालों तक पहुंचने की कोशिश की जाएगी.

वन संरक्षक हुआ अर्ल्ट :

डीएफओ राजेश कुमार और एसडीओ सुभाष चौधरी ने पूरे मामले की जानकारी वन संरक्षक गंगा प्रसाद को भी दी. बाद में उन्होंने सूचना के आधार पर तत्परता से कार्रवाई करने वाली टीम का उत्साह भी बढ़ाया.

मेरठ आंगनबाड़ी भर्ती: आवेदन की स्क्रूटनी शुरू, जानें कब तक आएगी मेरिट लिस्ट

मामले को लेकर होगी फोरेंसिक जांच:

वहीं, एसडीओ एसडीओ सुभाष चौधरी के मुताबिक वन्य जीवों की खाल बरामद करने के बाद कार्रवाई की जा रही है. फोरेंसिक जांच के लिए देहरादून पत्र लिखा जा रहा है. उनका कहना है कि इस चीज को लकेर कोशिश की जाएगी कि जांच में वन्य जीवों की खाल फेंकने वालों की जानकारी मिल जाए और कार्रवाई करें.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें